Home Sports News चीनी कंपनी के साथ करार तोड़ने पर BCCI अधिकारी ने कहा, फिर...

चीनी कंपनी के साथ करार तोड़ने पर BCCI अधिकारी ने कहा, फिर कौन हमें 400 करोड़ रुपये देगा ?


आईपीएल का आयोजन सितंबर में किया जा सकता है (फाइल फोटो)

बीसीसीआई (BCCI) को वीवो से सालाना 440 करोड़ रुपये मिलते हैं जिसके साथ पांच साल का करार 2022 में खत्म होगा.

नई दिल्‍ली. पूर्वी लद्दाख में हिंसक झड़प में 20 सैनिकों के शहीद होने के बाद देश में चीनी सामान को बैन करने की मुहिम तेज हो गई है. इस कड़ी में भारतीय वेटलिफ्टिंग संघ ने इस दिशा में बड़ा कदम उठाया और टोक्‍यो ओलिंपिक में प्रयोग होने वाले चीनी कंपनी जेडकेसी के वेटलिफ्टिंग सेटों को आगे से न खरीदने का फैसला किया है और अब बीसीसीआई (BCCI) पर भी चीनी कंपनी से करार तोड़ने का दबाव बन रहा है. जिस संबंध में जल्‍द ही मीटिंग हो सकती है. दरअसल चीनी कंपनी वीवो आईपीएल का मुख्‍य प्रायोज‍क है. जिससे बीसीसीआई को मोटी रकम मिलती है.

इनसाइडस्‍पोर्ट्स के मुताबिक वीवो से करार खत्‍म करने की बात पर एक बीसीसीआई अधिकारी ने कहा कि इस मुश्किल समय में कौन वीवो को रिप्‍लेस करेगा. कौन हमें उसी के बराबर 400 करोड़ रुपये देगा. इस मार्केट में, कोई भी इतना पैसा नहीं दे सकता. बीसीसीआई सूत्र ने कहा कि सभी को यह समझना चाहिए कि चीनी कंपनी वीवो के साथ करार खत्‍म नहीं हो सकता. उन्‍होंने कहा कि इसे कैसे तोड़ सकते हैं. चीनी ब्रांड टेलीविजन पर और क्रिकेट प्रॉपर्टी पर बड़ा विज्ञापन देते हैं. कैसे इसे रोका जा सकता है. हमें ऐसा करने का कोई अधिकार नहीं है. स्टार इंडिया के साथ हमारे करार में इस तरह के विज्ञापन को निलंबित करने का कोई अनुच्‍छेद नहीं है. बीसीसीआई अधिकारी ने कहा कि चीनी विज्ञापनदाता आईपीएल और बाकी बीसीसीआई के क्रिकेट इवेंट्स में बड़ा खर्च करते हैं.

यह भी पढ़ें: 

हरभजन सिंह ने हॉस्पिटल्‍स पर साधा निशाना, कहा- कोरोना की दवा न होते हुए भी लाखों का बिल आना है ‘आर्ट’इरफान पठान ने इशारों में अमिताभ बच्चन पर साधा निशाना! कहा-बड़े फिल्मस्टार की वजह से…

चीनी कंपनियों से भारत को फायदा’
लद्दाख में सीमा पर गलवान में दोनों देशों के बीच सैन्य तनाव के बाद चीन विरोधी माहौल गर्म है . चार दशक से ज्यादा समय में पहली बार भारत चीन सीमा (India-China) पर हुई हिंसा में कम से कम 20 भारतीय जवान शहीद हो गए. उसके बाद से चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मांग की जा रही है. कुछ दिन पहले बीसीसीआई के कोषाध्‍यक्ष अरूण धूमल ने कहा था आईपीएल जैसे भारतीय टूर्नामेंटों के चीनी कंपनियों द्वारा प्रायोजन से देश को ही फायदा हो रहा है. बीसीसीआई को वीवो से सालाना 440 करोड़ रुपये मिलते हैं जिसके साथ पांच साल का करार 2022 में खत्म होगा.


First published: June 23, 2020, 1:26 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments