Home Make Money छंटनी और वेतन कटौती से SBI पर कम असर पड़ेगा: चेयरमैन...

छंटनी और वेतन कटौती से SBI पर कम असर पड़ेगा: चेयरमैन रजनीश कुमार


नई दिल्ली. भारतीय स्टेट बैंक चेयरमैन रजनीश कुमार (Rajnish Kumar) ने ​शेयरहोल्डर्स को कहा है कि कोविड-19 महामारी के चलते छंटनी और सैलरी कटौती से बैंक पर दबाव ‘तुलनात्मक रूप से कम’ होगा. इसका कारण उन्होंने बताया कि सरकारी और अर्ध-सरकारी सेक्टर के बिजनेस अनुपात SBI में ज्यादा है. बैंक शेयरहोल्डर्स को लिखे गये एक लेटर में रजनीश कुमार ने यह बात कही है.

कुमार ने आत्मविश्वास जताते हुए कहा कि आर्थिक हालत ठीक नहीं होने के बावजूद भी वित्त वर्ष 2019-20 में देश के सबसे बड़े बैंक का परफॉर्मेंस जबरदस्त रहा है. चालू वित्त वर्ष में भी यह जारी रहेगा.

FY21 में भी जबरदस्त ग्रोथ की उम्मीद
SBI चेयरमैन ने कहा, ‘मौजूदा आर्थिक हालात के मद्देनजर देखें तो कोविड-19 की चुनौतियों से निपटने के लिए SBI ने बेहतर तैयारी की है. मुझे भरोसा है कि FY20 में हमने जो जबरदस्त प्रदर्शन किया है, उसे FY21 में दोहरा सकेंगे.’यह भी पढ़ें: बड़ी खबर! हेल्थ वर्कर्स के लिए 50 लाख का इंश्योरेंस अब सितंबर तक बढ़ा

कोविड-19 से बदले ग्राहकों का नजरिया
चालू वित्त वर्ष में कोविड-19 आउटब्रेक के पूरे प्रभाव पड़ने पर उन्होंने कहा कि बैंक के नजरिए से इस महमारी का सही असर ग्राहक पर व्यावहारिक रूप से पड़ेगा. इसमें पोर्टफोलिया की रचना भी शामिल है. SBI सालाना रिपोर्ट (SBI Annual Report 2020) के आधार पर इस लेटर में रजनीश कुमार ने कहा, ‘उदाहरण के तौर पर देखें तो नौकरी व सैलरी कटौती से दबाव तुलनात्मक रूप में कम होगा क्योंकि सरकारी व अर्ध-सरकारी सेक्टर के ग्राहकों का अनुपात ज्यादा है.’

लॉकडाउन में सामान्य रहा बैंक का ऑपरेशन
उन्होंने कहा कि अभी तक 21.8 फीसदी ग्राहकों ने ही मोरेटोरियम का लाभ लिया है. लॉकडाउन के दौरान बैंक के 98 फीसदी ब्रांच का ऑपरेशनल चालू था जबकि वै​कल्पिक चैनल ऑपरेबिलिटी 91 फीसदी तक था. इसके अलावा भविष्य में की चुनौतियों के लिए एक विस्तृम बिजनेस कॉन्टीन्युटी प्लान यानी बीसीपी तैयार है.

यह भी पढ़ें: 27 जून को शुरू होगा अमेजन का स्मॉल बिजनेस डे, छोटे कारोबारियों को होगा फायदा

कारोबारी सुगमता और सहूलियतें बढ़ीं
SBI की सालाना रिपोर्ट में कहा गया है कि वह केंद्र सरकार ई-गवर्नेंस पहल को प्रमुखता से बढ़ावा दे रही है और केंद्र सरकार व राज्य सरकारों के लिए यह ई-सॉल्युशन को विकसित करने पर भी काम कर रही है. रिपोर्ट में कहा गया, ‘इस ऑनलाइन मोड में ट्रांजिशन करने की सुविधा मिली है और पारदर्शिता व दक्षता बढ़ी है. इसके नजीते में कारोबारी सुगमता बढ़ी है और नागरिकों के जीवन में सहूलियतें भी बढ़ी हैं.’

FY20 SBI को जबरदस्त मुनाफा
वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान SBI का कुल सरकारी बिजनेस टर्नओवर 52,62,643 करोड़ रुपये रहा है. वित्त वर्ष 2019-20 में SBI के 14,488 करोड़ रुपये शुद्ध मुनाफा कमाया है, जोकि अब तक का सर्वोच्च सालाना मुनाफा है. वित्त वर्ष 2018-19 में शुद्ध मुनाफा 862 करोड़ रुपये का था.

रजनीश कुमार ने कहा, ‘कोविड–19 महामारी के बीच वैश्विक अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता बढ़ी है और संभावित तौर पर दुनिया में गहरी मंदी की आशंका है.’ चालू वित्त वर्ष में रिज़र्व बैंक भी भारतीय अर्थव्यवस्था में संकुचन का अनुमान लगाया है.

यह भी पढ़ें: Income Tax बचाना है तो 30 जून से पहले इस स्‍कीम में करें निवेश

कुमार ने कहा मौजूदा महामारी ने ग्राहकों की वरीयता को पूरी तरह से बदल लिया है. ऐसे में बैंकों के पास बड़ा मौका है क्योंकि अब ज्यादा संख्या में लोग बैंकिंग लेनदेन करने के लिए डिजिटल चैनल का सहारा लेने लगे हैं. इस लेटर में उन्होंने यह भी बताया कि एसबीआई YONO को और भी बड़े स्तर पर ले जाएगा और अगले 6 महीने में यूजर रजिस्ट्रेशन संख्या को दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments