Home Health & Fitness डिप्रेशन के शिकार व्यक्ति में नजर आते हैं ये लक्षण, कभी नजरअंदाज...

डिप्रेशन के शिकार व्यक्ति में नजर आते हैं ये लक्षण, कभी नजरअंदाज न करें


बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत की खबर से अभी तक लोग ठीक से उबर भी नहीं पाए हैं. अब दिल्ली (Delhi) के प्रीत विहार में रहने वाली 16 वर्षीय टिकटॉक स्टार (Tik Tok Star) की आत्महत्या (Suicide) ने सबको हैरान कर दिया है. अब हर जगह चर्चा है कि आखिर सब कुछ होते हुए भी इंसान डिप्रेशन (depression) यानी तनाव और अवसाद में कैसे चला जाता है. उसके परिवार, दोस्त या उसके आसपास के लोग उसकी इस स्थिति को समझ क्यों नहीं समझ पाते? इस घटना से एक बात समझ आती है कि डिप्रेशन के लक्षणों या संकेतों को समझना बहुत जरूरी है, ताकि इससे जूझ रहे किसी अपने को समय रहते बचा लिया जाए. उसे इस तकलीफ से निकालने में मदद की जाए. उसे उम्मीद दिलाई जाए कि सब कुछ पहले जैसा ही होगा.

myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. उमर अफरोज का कहना है कि डिप्रेशन एक मानसिक स्वास्थ्य विकार है. यह विशेष रूप से एक मूड डिसऑर्डर है जो लगातार उदासी और किसी भी चीज से कोई लगाव न होने के कारण होता है. डिप्रेशन कुछ दिनों की समस्या नहीं है, यह एक लंबी बीमारी है. इसका औसत समय 6-8 महीने होता है. इसके उपचार के लिए परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों की मदद बहुत जरूरी है. इसके अलावा साइकोथेरेपी, एंटीडेप्रेसेंट्स दवाइंयों के जरिये उपचार किया जा सकता है.

उदासी, खालीपन की भावनाएं
कभी-कभार या कुछ समय के लिए उदासी, नाखुशी की भावना या निराश होना आम है. अगर यह लक्षण ज्यादा समय तक रहे तो चिंता का विषय हो सकते हैं. डिप्रेशन से गुजर रहे लोगों के लिए निराशा से उबराना कठिन होता है. उनके मन में असंतोष, विफलता की भावना रहती है और कुछ ऐसा यकीन होने लगता है कि कुछ भी बेहतर नहीं होगा. डिप्रेशन से जूझ रहे लोग अक्सर बिना किसी कारण के नाखुश महसूस करते हैं.छोटी-छोटी बातों पर भी गुस्सा, चिड़चिड़ापन

लगातार चिड़चिड़ापन भी किशोरों और बच्चों में डिप्रेशन का एक लक्षण है. जब किसी को डिप्रेशन होता है तो वह अपनी पसंदीदा गतिविधि तक से कतराता है या दूसरों के साथ जुड़कर खुश नहीं रहता. इस तरह अलग-थलग होने से उनके दोस्तों और प्रियजनों को डिप्रेशन के लक्षणों को देखना कठिन हो सकता है.यह जानना मुश्किल हो जाता है कि किसी व्यक्ति को मदद की जरूरत कब है.

नींद पर असर
भले ही कितना भी थके हुए हो, लेकिन अगर डिप्रेशन से गुजर रहे हैं तो सोने में परेशानी हो सकती है. नींद के पैटर्न में बदलाव जैसे अनिद्रा या खूब नींद आना डिप्रेशन का एक और लक्षण है.

थकान और ऊर्जा की कमी

कई बार यह लक्षण नजरअंदाज हो जाता है. डिप्रेशन के शिकार व्यक्ति को थकान महसूस होती है. उसे महसूस होता है कि जैसे शरीर में ऊर्जा बची ही नहीं. ऊर्जा की ऐसी कमी लगती है कि छोटे काम को करने के लिए भी अतिरिक्त प्रयास करने पड़ते हैं.
भूख में बदलाव
जब डिप्रेशन की शिकायत हो तो कुछ लोगों का या तो वजन बढ़ता है या कम होता है. यह उनके भूख में बदलाव के कारण होता है. कुछ के लिए इसका मतलब है भूख बढ़ जाना और इसके साथ वजन बढ़ना. वहीं कुछ लोगों की भूख खत्म हो जाती है और खाना उन्हें भारी काम लगता है.

चिंता और बेचैनी
myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति में दूसरों की तुलना में घबराहट और चिंता की संभावना अधिक महसूस होती है. बिना किसी खास कारण के ऐसा हो तो संभव है कि वह डिप्रेशन से गुजर रहा है.

अपराधबोध या खुद को कम समझना
डिप्रेशन का संकेत है बार-बार खुद को कमतर समझना और यह महसूस करना कि वह हर चीज का दोषी है.

आत्महत्या का विचार
डिप्रेशन का सबसे गंभीर लक्षण है आत्महत्या का विचार. पूरे समय अपनी जिंदगी को खत्म करने का विचार आना या योजना बनाना और महसूस करना कि अब कोई विकल्प नहीं बचा.

यदि किसी परिजन या दोस्त में ये संकेत नजर आएं तो सबसे पहला काम यह है कि उससे बात की जाए. अगर वह शख्स अपने मन की बात कह देगा तो हल्का महसूस करेगा. हो सकता है कोई रास्ता ही निकल आए. उसे यह भी समझाएं कि हर बीमारी का इलाज है. डिप्रेशन का इलाज करवाकर लोग ठीक हुए हैं.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, डिप्रेशन की समस्या से निपटने के घरेलू उपाय पढ़ें.

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments