Home India News तमिलनाडु: जयराज और बेनिक्स की मौत ने पुलिसिया बर्बरता पर उठाए गंभीर...

तमिलनाडु: जयराज और बेनिक्स की मौत ने पुलिसिया बर्बरता पर उठाए गंभीर सवाल


तमिलनाडु में जयराज और बेनिक्स की मौत की वजह से बवाल मच गया है.

तमिलनाडु (Tamilnadu) में पुलिसिया बर्बरता का शिकार हुए जयराज और बेनिक्स (Jayaraj and Bennix) के मामले में कई बड़े नेताओं ने ट्वीट किया है. मामला साफ तौर पर पुलिस प्रताड़ना का दिखाई दे रहा है. जेल में हुई दोनों की मेडिकल जांच तो कुछ ऐसा ही कर रही है.

चेन्नई. तमिलनाडु (Tamilnadu) के तुतिकोरिन में पुलिसिया बर्बरता (Police Torture) की वजह से जान गंवाने वाले बाप-बेटे जयराज और बेनिक्स (Jayaraj and Bennix)  का मामला पूरे देश में सुर्खियां बन गया है. इस मामले का सबसे भयावह पक्ष ये है कि पुलिस ने हिरासत के दौरान अपनी बर्बरता छुपान के लिए कोर्ट से न्यायिक हिरासत की मांग की थी. रिमांड ऑर्डर सत्तनकुलम के मजिस्ट्रेट द्वारा दिया गया था. अब सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्या न्यायिक हिरासत से पहले जयराज और बेनिक्स का मेडिकल परीक्षण किया गया था.

पहले ही तैयार करवा ली गई मेडिकल रिपोर्ट
ऐसे सवाल भी उठ रहे हैं कि मजिस्ट्रेट के सामने जयराज और बेनिक्स की पेशी के पहले ही मेडिकल रिपोर्ट तैयार करवा ली गई थी. और क्या कोविलपट्टी जेल के जेलर ने दोनों नए कैदियों को जेल के भीतर लाने से पहले घावों की जांच की थी? न्यूज़18 ने बेनिक्स और जयराज को थाने में प्रताड़ित किए जाने लेकर उनकी मौत तक के समय के बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश की है.

जेल के डॉक्टर हुए शॉकजब कोविलपट्टी जेल में जयराज और बेनिक्स का मेडिकल परीक्षण किया गया तभी डॉक्टर घाव देखकर शाक हो गए थे. दोनों की पीठ पर पिटाई के गंभीर प्रमाण मौजूद थे. बेनिक्स का घुटना बुरी तरह सूजा हुआ था. मेडिकल परीक्षण करने वाले डॉक्टर ने पुलिस द्वारा दिए गए मेडिकल सर्टिफिकेट से भी मिलान किया था. सरकारी अस्पताल में बनी इस रिपोर्ट में कहा गया था जयराज और बेनिक्स को ये चोट गिरने की वजह से लगी लगी है. शरीर में घिसटने के निशान हैं. इस बाद को जेल में मेडिकल परीक्षण करने वाले डॉक्टर मानने को तैयार नहीं थे.

मधुमेह और बीपी की जांच
जेलों में मेडिकल परीक्षण के दौरान मधुमेह और बीपी की जांच विशेष रूप से की जाती है. जांच के दौरान डॉक्टरों पाया कि जयराज का डायबिटीज बढ़ा हुआ है और बेनिक्स का बीपी बढ़ा है. डॉक्टर ने जयराज की जांच के बाद उन्हें दवाएं दीं. और जेल प्रशासन से उन्हें अस्पाताल में दिखाने को कहा.

घाव और मेंटल ट्रॉमा दोनोें से जूझ रहे थे जयराज और बेनिक्स
दोनों के मेंटल ट्रॉमा पर उतना ध्यान नहीं दिया जा सका. पुलिसिया बर्बरता के शिकार जयराज और बेनिक्स जितने घायल थे उससे कहीं ज्यादा डरे हुए थे. बाद में दोनों ही हालत बिगड़ती चली गई और बेनिक्स ने अस्पताल में दम तोड़ा तो जयराज की मौत जेल में हो गई.

पूरे देश में हो रही चर्चा
गौरतलब है कि पुलिसिया बर्बरता के शिकार हुए जयराज और बेनिक्स का मामला पूरे देश में चर्चा में आ गया है. मामले में जांच की मांग की जा रही है. पुलिस पर हिरासत में पिता और बेटे को यौन प्रताड़ना और बर्बर यातना देने के संगीन आरोप हैं.


First published: June 27, 2020, 2:57 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments