Home Make Money निर्मला सीतारमण ने कहा- आयात करना गलत नहीं लेकिन चीन से क्यों...

निर्मला सीतारमण ने कहा- आयात करना गलत नहीं लेकिन चीन से क्यों खरीदें गणेश मूर्ति?


वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

गुरुवार को त​मिलनाडु के बीजेपी वर्कर्स (BJP Workers) को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने कहा कि जिन कच्चे माल की उपलब्धता भारत में नहीं है और उनका आयात किया जाता है तो इससे रोजगार के मौके पैदा होंगे. साथ ही, घरेलू इंडस्ट्रिज को भी लाभ मिल सकेगा.

नई दिल्ली.​ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने गुरुवार को कहा कि आर्थिक ग्रोथ के लिए आयात करने में कोई गलती नहीं है लेकिन यह आश्चर्य की बात है कि गणेश भगवान की मूर्ति भी चीन से लाई जा रही है. उन्होंने कहा कि इंडस्ट्रीज के लिए भारत में उपलब्ध न होने वाले कच्चे माल का आयात (Imports from China) गलत नहीं है. गुरुवार को उन्होंने तमिलनाडु में बीजेपी वर्कर्स (Tamil Nadu BJP Workers) को वर्चुअली संबोधित करते हुए उन्होंने यह बात कही.

जरूरी सामानों का आयात गलत नहीं
वित्त मंत्री ने कहा, ‘ऐसे आयात में कोई गलती नहीं है, जिससे घरेलू उत्पादन को बढ़ावा मिल सके और रोजगार के मौके उत्पन्न हों. यह निश्चित रूप से होना चाहिए. हालांकि, ऐसे आयात जो न तो रोजगार बढ़ाने में मदद करते हैं और न ही ग्रोथ को सपोर्ट करते हैं, इससे आत्मनिर्भरता और भारतीय अर्थव्यवस्था को फायदा नहीं होगा.

यह भी पढ़ें: अगले 6 महीने में 4,000 लोगों को नौकरी देगा Byju’s, जानिए क्या है इस स्टार्टअप की तैयारीगणेश मूर्ति लोकल से खरीदने की परंपरा

उन्होंने कहा कि हर साल गणेश च​तुर्थी के मौके पर लोकल कुम्हारों से ही पारंपरिक तौर पर गणेश मूर्ति खरीदा जाता है. लेकिन, आज इसे भी चीन से आयात किया जा रहाह है. यह स्थिति क्यों है? क्या हम अपने घरेलू स्तर पर गणेश मूर्ति नहीं बना सकते हैं.

भारत में बनने वाले उत्पादों का आयात सही नहीं
उन्होंने आश्चर्य जताते हुए कहा कि साबुन के डिब्बे, प्लास्टिक आइटम्स, अगरबत्ती जैसे घरेलू सामानों के आयात से आत्मनिर्भर भारत को सपोर्ट नहीं मिलेगा, खासतौर पर तब, जब ये उत्पाद भारत सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों (MSME) द्वारा ​बनाये जाते हैं. आत्मनिर्भर भारत की मूल भावना यही है कि जिन वस्तुओं को घरेलू स्तर पर बनाया जा रहा है या बनाया जा सकता है, उसका आयात न किया जाए.

यह भी पढ़ें: ऐप के जरिए लोन लेने वालों के लिए बड़ी खबर! RBI ने जारी किए नए नियम

उन्होंने कहा भारत में आत्मनिर्भरता लंबे समय से चली आ रही है. लेकिन यह धूमिल होता गया और अब इस अभियान में लोकल विनिर्माण को हमें बढ़ाना है. उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि आत्मनिर्भर भारत अभियान का मतलब यह भी नहीं है कि बिल्कुल ही आयात नहीं किया जाए.


First published: June 25, 2020, 10:24 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments