Home India News बीजेपी अध्यक्ष नड्डा का मनमोहन सिंह को जवाब- सेनाओं के साहस पर...

बीजेपी अध्यक्ष नड्डा का मनमोहन सिंह को जवाब- सेनाओं के साहस पर सवाल बंद कीजिए


बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने सिलसिलेवार ढंग से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का जवाब दिया है.

बीजेपी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (Jagat Prakash Nadda) ने कहा है कि मनमोहन सिंह (Man Mohan Singh) उसी पार्टी से ताल्लुक रखते हैं कि जिसने असहाय स्थिति में 43 हजार वर्ग किलोमीटर की जमीन चीन को सरेंडर कर दी थी.

नई दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (Jagat Prakash Nadda) ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (ManMohan Singh) के गलवान घाटी पर लिखे गए खत का सिलसिलेवार ढंग से जवाब दिया है. एक के बाद एक चार ट्वीट में नड्डा ने मनमोहन सिंह का जवाब दिया है. उन्होंने लिखा कि डॉ. मनमोहन सिंह उसी पार्टी से ताल्लुक रखते हैं कि जिसने असहाय स्थिति में 43 हजार वर्ग किलोमीटर की जमीन चीन को सरेंडर कर दी गई. यूपीए के शासन के दौरान हतोत्साहित करने वाली रणनीति और सरेंडर देखे गए.

अपने कार्यकाल को याद करें मनमोहन सिंह
नड्डा ने लिखा है कि मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्री रहते हुए 2010 से 2013 के बीच तकरीबन 600 बार चीन की तरफ से भारतीय सीमाओं का अतिक्रमण किया गया. मनमोहन सिंह चाहें तो कई विषयों पर अपनी बुद्धमत्तापूर्ण राय रख सकते हैं लेकिन प्रधानमंत्री पद की जिम्मेदारी कतई उनमें से एक नहीं है. यूपीए के समय पीएम के दफ्तर की जिम्मेदारियों में सिस्टमेटिक क्षरण देखा गया था. साथ ही हमारी सेनाओं के असम्मान की भावना भी थी. एनडीए के शासनकाल में ये खोई हुई प्रतिष्ठा वापस मिली है.

सेनाओं के प्रति सम्मान दिखाना होगाबीजेपी अध्यक्ष ने तीखा प्रहार करते हुए लिखा है-डॉ. मनमोहन सिंह और कांग्रेस पार्टी को हमारी सेनाओं का बार-बार अपमान बंद कर देना चाहिए. बार-बार उनके साहस पर प्रश्नचिन्ह नहीं खड़े करने चाहिए. ऐसा ये लोग एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक के वक्त भी कर चुके हैं. निवेदन है कि राष्ट्रीय एकता कगा मतलब समझिए. विशेष तौर पर ऐसे समय में. सुधरने के लिए कभी देर नहीं होती.

मनमोहन सिंह ने क्या कहा?
गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार से चीन को जवाब देने की अपील की है. लद्दाख सीमा विवाद में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि ‘जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाना चाहिए. सरकार को चीन की धमकियों और बयानों से कमजोर नहीं पड़ना चाहिए. यही समय है जब पूरे राष्ट्र को एकजुट होना है और संगठित होकर इस दुस्साहस का जवाब देना होगा.’

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने चीन के साथ जारी तनाव पर एक बयान जारी कर कहा है, ‘हम सरकार से आगाह करेंगे कि भ्रामक प्रचार कभी भी कूटनीति और मजबूत नेतृत्व का विकल्प नहीं हो सकता.’ उन्होंने कहा, ‘आज हम इतिहास के नाजुक मोड़ पर खड़े हैं. हमारी सरकार के निर्णय और सरकार के कदम तय करेंगे कि भविष्य की पीढ़ियां हमारा आकलन कैसे करें. जो देश का नेतृत्व कर रहे हैं, उनके कंधों पर कर्तव्य का गहन दातित्व है. हमारे प्रजातंत्र में यह दायित्व प्रधानमंत्री का है.’


First published: June 22, 2020, 1:36 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments