Home Health & Fitness रिसर्च में दावा : सर्दी जुकाम है तो नहीं होगा कोरोना इंफेक्‍शन

रिसर्च में दावा : सर्दी जुकाम है तो नहीं होगा कोरोना इंफेक्‍शन


सामान्य सर्दी कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने में मददगार हो सकती है.

इस शोध (Research) के मुताबिक 13,000 से अधिक कोरोना मरीजों (Corona Patients) के तीन साल तक के क्‍लिनिकल डेटा (clinical Data) का अध्ययन किया गया. इसमें पाया गया कि जिन लोगों को मामूली सर्दी-जुकाम था, उनमें कोरोना वायरस का संक्रमण (Coronavirus Infection) होने की आशंका बहुत कम थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    September 7, 2020, 2:01 PM IST

जब से कोरोना का संक्रमण (Coronavirus Infection) फैला है, लोगों में मामूली सर्दी-जुकाम (Cold and Cough) को लेकर भी डर बना हुआ है. यह डर लाजिमी भी है, क्‍योंकि कोरोना के शुरुआती लक्षणों (Corona Symptoms) में सर्दी जुकाम भी शामिल है. हालांकि कोरोना की रोकथाम के लिए कई तरह के शोध (Research) किए जा रहे हैं, ताकि इसके संक्रमण (Infection) से बचाव किया जा सके. इंडियन एक्‍सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक नए शोध में यह बात सामने आई है कि सामान्य सर्दी कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने में मददगार हो सकती है. यानी अगर आपको सर्दी जुकाम है, तो आपके कोरोना से संक्रमित होने की आशंका काफी कम हो जाती है. इसमें दावा किया गया है कि कॉमन कोल्‍ड या जुकाम कोरोना के संक्रमण से हमारा बचाव करता है.

यह भी पढ़ें – Menstrual Cups कितने प्रकार के होते हैं और इन्‍हें कैसे यूज करते हैं, जानें

आउटलेट के अनुसार डॉ. एलेन फॉक्समैन (Dr Ellen Foxman) के नेतृत्व में येल विश्वविद्यालय (Yale University) की एक टीम ने येल न्यू हेवन अस्पताल में 13,000 से अधिक कोरोना मरीजों के तीन साल तक के क्‍लिनिकल डेटा का अध्ययन किया. इन रोगियों में श्वसन संक्रमण के लक्षण थे. इस शोध में पाया गया कि महीनों के दौरान जब दोनों वायरस आम तौर पर सक्रिय थे. ऐसे में अगर इंसान के शरीर में सामान्य सर्दी वायरस मौजूद था, तो फ्लू वायरस नहीं था. डॉ. फॉक्समैन, जो प्रयोगशाला चिकित्सा और इम्यूनोबायोलॉजी के सहायक प्रोफेसर और इस अध्ययन के वरिष्ठ लेखक हैं, वह कहते हैं कि ‘जब हमने डेटा को देखा, तो यह स्पष्ट हो गया कि बहुत कम लोगों में एक ही समय में दोनों वायरस मौजूद थे.’

यह भी पढ़ें – इन आसान टिप्‍स को फॉलो करके आप बढ़ा सकते हैं अपनी मेमोरी पावरवह आगे कहते हैं कि हालांकि हम अभी भी इस बात पर शोध कर रहे हैं कि कॉमन कोल्ड वायरस के वार्षिक मौसमी प्रसार का कोरोनो वायरस के संपर्क में आने वाले लोगों पर समान प्रभाव पड़ेगा या नहीं.’ इस विशेष अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं ने स्टेम कोशिकाओं से एक मानव वायुमार्ग ऊतक (Human Airway Tissue) बनाया, जो कि स्टेम कोशिकाओं से उपकला कोशिकाओं को जन्म देता है. यह फेफड़ों के वायुमार्ग को भी क्रमबद्ध करता है और हमेशा श्वसन वायरस द्वारा लक्षित होता है. यह अध्ययन हाल में द लांसेट माइक्रोब जर्नल में प्रकाशित हुआ था.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments