Home India News सीरियल किलर: महिलाओं को सायनाइड खिलाकर करता था मर्डर, 20वीं हत्या का...

सीरियल किलर: महिलाओं को सायनाइड खिलाकर करता था मर्डर, 20वीं हत्या का दोषी करार


सायनाइड मोहन के खिलाफ हत्या का ये 20वां और आखिरी मामला था.

सायनाइड मोहन को (Serial Killer Cyanide Mohan) इससे पहले हत्या के पांच मामलों में मौत की सजा और तीन मामलों में उम्रकैद की सजा सुनाई जा चुकी है. मौत की दो सजाओं को बाद में उम्रकैद में बदल दिया गया था.

मेंगलुरु. कर्नाटक में मेंगलुरु की एक स्थानीय अदालत ने सीरियल किलर ‘सायनाइड’ मोहन को बलात्कार और हत्या ( Rape and Murder) का दोषी ठहराया है. दोषी के खिलाफ हत्या का ये 20वां और आखिरी मामला था. उस पर कई महिलाओं के साथ दोस्ती कर उनसे रेप करने और फिर सायनाइड देकर उनकी हत्या करने का आरोप है. इस मामले में 24 जून को सजा सुनाई जा सकती है.

20वें मर्डर को ऐसे दिया था अंजाम
20वें मर्डर का मामला साल 2009 का है. कर्नाटक के कासरगोड़ के गर्ल्स होस्टल में महिला खाना बनाती थी. मोहन ने इस महिला से शादी करने का वादा किया. आठ जुलाई 2009 को महिला घर से ये कहकर निकली कि वो मंदिर जा रही है. इसके बाद वो मोहन के साथ बेंगलुरु चली गई. जब लड़की के परिवारवालों ने उसे फोन करके लड़की के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उन्होंने शादी कर ली है और जल्द ही घर लौट आएंगे. मोहन महिला को बस अड्डे के पास एक लॉज में ले गया, वहां दोनों ने संबंध बनाए. अगले दिन निकलने से पहले उसने युवती से सारे जूलरी रूम में ही छोड़ने के लिए कहा.

ये भी पढ़ें:- सीमा विवाद के बीच चीन से आयात कम करने की तैयारी, PMO ने मांगी सामानों की सूचीगर्भनिरोधक गोली के नाम पर सायनाइड
कोर्ट में वकील ने कहा कि इसके बाद दोनों बस अड्डे पर पहुंचे वहां मोहन ने उसे सायनाइड लगी एक गोली खाने को दी. कहा कि ये गर्भनिरोधक गोली है. इसके बाद दोनों वहां से चले गए. महिला गोली खाने के बाद बस अड्डे के टॉयलेट के पास बेहोश होकर गिर गई. उसे एक पुलिसकर्मी पास के अस्पताल ले गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. इस मामले में मौत का मामला दर्ज किया गया था.

ऐसे पकड़ा गया मोहन
मोहन को अक्टूबर 2009 में गिरफ्तार किया गया और उसकी फोटो देख कर महिला की बहन ने उसे पहचान लिया. इसके बाद उसके खिलाफ केस चला. इससे पहले उसे पांच मामलों में मौत की सजा और तीन मामलों में उम्रकैद की सजा सुनाई जा चुकी है. मौत की दो सजाओं को बाद में उम्रकैद में बदल दिया गया था.


First published: June 22, 2020, 7:22 AM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments