Home India News अमेठी को अपराध मुक्त करने की कवायद में जुटे नए कप्तान, इन...

अमेठी को अपराध मुक्त करने की कवायद में जुटे नए कप्तान, इन 10 बिंदुओं पर फोकस


अमेठी. उत्तर प्रदेश के अमेठी (Amethi) में  पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह (SP Dinesh Singh) ने ज्वाइन कर लिया है. ज्वाइन करते ही एसपी अमेठी को अपराध मुक्त करने की कवायद में जुट गए हैं. न्यूज 18 से बातचीत में कप्तान दिनेश सिंह ने विस्तार से अपनी योजनाओं का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि पुलिस इक़बाल से चलती है और बदलते समय में पुलिस आधुनिक होने के साथ पारंपरिक तौर-तरीकों को भूल रही है. यही वजह है कि अपराध में भी इजाफ़ा देखने को मिल रहा है. ग्रामीण क्षेत्रों में अमेठी पुलिस इक़बाल क़याम करने की कवायद में जुट गई है.

सबसे ज्यादा विश्वास बढ़ाने पर फोकस

एसपी ने कहा जनता के बीच पुलिस का भरोसा और विश्वास बढ़ाने के लिए मैं स्वयं अमेठी के ग्रामीणों क्षेत्रों में भ्रमण करूंगा. साथ ही ग्रामीणों के बीच बैठकर उनकी समस्याओं को लेकर वार्ता भी की जाएगी. क्योंकि अक्सर ये देखा जाता है ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोग अपनी परेशानी पुलिस के सामने कह नहीं पाते, जिसके बाद वो प्रताड़ित किए जाते रहते हैं.

पिछले 2 महीने के ग्राफ देखें तो अमेठी में ताबड़तोड़ हत्या, लूट, छिनैती और जमीन विवाद में खूब मामले सामने आए, जिसमे खूब लाठी डंडे भी चले. अमेठी के बिगड़ते कानून व्यवस्था के चलते यूपी सरकार ने अमेठी में आईपीएस दिनेश सिंह को तैनात किया और नवागत पुलिस अधीक्षक अमेठी पहुंचते ही सबसे पहले अमेठी को अपराध मुक्त करने की बात कही.बदली-बदली सी दिखने लगी अमेठी पुलिस

मुखिया के बदलते ही अमेठी पुलिस में भी परिवर्तन दिखने लगा है. अमेठी पुलिस ने सभी चौकी, थाना, कोतवाली और बॉर्डर एरिया में लगे बोर्ड अमेठी पुलिस को नई पहचान दे रहे हैं. अमेठी एसपी के निर्देश पर उत्तरप्रदेश पुलिस के मोटो को एक बार फिर हाई-लाइट किया जा रहा है. सभी साइन बोर्डो पर लिखा जा रहा है कि “सुरक्षा आपकी, संकल्प हमारा”.

अमेठी पुलिस इन दिनों कुछ खास बिंदुओ पर फोकस कर रही है

1- लॉक डाउन में कोरोना महामारी के प्रसार को कम करने के लिए सड़कों पर अमेठी पुलिस दिनरात लोगों को जागरूक करने में जुटी.

2- अमेठी की सड़कों पर बिना मास्क के मिलने पर कार्रवाई

3- सभी ऑफिस और सावर्जनिक स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग की अपील

4- यातायात पुलिस के साथ सभी थाने और भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में सघन चेकिंग

5- यातायात नियमों के पालन पर फोकस

6- अमेठी के टॉप-10 अपराधियों की सूची लगातार अपडेट कर गिरफ्तारी

7- थानों में तैनात हल्का या बीट सिपाही को अपने क्षेत्र में पैनी नज़र रखने की दी गई हिदायत

8- फरियादियों की समस्याओं के निस्तारण के लिए हिदायत

9- छोटे-छोटे मामलों को गंभीरता से लें

10- एसपी अमेठी खुद भ्रमण कर पुलिसिंग की कर रहे पड़ताल

जमीनी विवाद, छोटी घटनाओं पर सजगता

अमेठी का अधिकतर इलाका ग्रामीण क्षेत्रों में रहता है इसलिए अमेठी में जमीनी के विवाद अधिक है, जिसके चलते मारपीट की छोटी-छोटी घटनाएं अधिक हो रही है. पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में मिले अनुभव से पता चला कि गांवों में होने वाले ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए उस हल्के के सिपाही को मजबूत बनाना होगा. उसके अधिकार बढ़ाने होंगे. उसे इतना अधिकार मिले कि वो अपने हल्के में और जिम्मेदारी के साथ काम कर सके.

सूचना तंत्र पर काम

एसपी दिनेश सिंह ने कहा कि वो कुछ योजनाओं का खाका तैयार किया जा रहा है. सिपाही थाने व थाना प्रभारी के पास से निकलकर गांवो में अपनी सक्रियता को मजबूती बनाएं, जिससे गांव में घटित होने वाली घटनाओं पर उसकी पैनी नजर रहेगी. हर गांव के दो से तीन संभ्रांत लोगों का सिपाही के पास नंबर होगा ताकि वो हर दिन अपने हल्के वाले गांवों की गतिविधि के विषय जानकारी मिलती रहे. इसमें राजस्व विभाग का सहयोग हासिल करने के लिए वो संबंधित उच्चधिकारियों सभी बात करेंगे.

फिर से मजबूत होगा मुखबिर तंत्र

इन दिनों पुलिस आधुनिक बनने के चक्कर में पारंपरिक तौर-तरीकों को भूल चुकी थी लेकिन अगर अपराध को कम करना है और लोगों को बेहतर पुलिसिंग देना है. गांव में तैनात सिपाही को अपना सूचनातंत्र मजबूत बनाने के लिए लोगों से संपर्क कर सूचनाएं रखनी होंगी. अमेठी एसपी पुलिस के इकबाल और भरोसे को मजबूत करने के लिए अमेठी की सड़कों पर गश्त के साथ कोतवाली या फिर थाने के ताबड़तोड़ औचक निरीक्षण में जुटे हैं.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments