Home India News कानपुर शेल्टर होम मामलाः कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद भी सील...

कानपुर शेल्टर होम मामलाः कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद भी सील नहीं हुआ संवासिनी गृह


शेल्टर होम की सात बच्चियां गर्भवती पायी गई. (सांकेतिक तस्वीर)

प्रोबेशन अधिकारी ने माना है कि संवासिनी गृह (Kanpur Samvasini Grih) में क्षमता से अधिक बच्चियां रह रही हैं. मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) के बयान देने से लेकर कई अन्य नेताओं ने भी प्रशासन के रवैये पर सवाल उठाया है.

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित संवासिनी गृह मामले (Kanpur Shelter Home case) में प्रशासन की लापरवाही लगातार उजागर हो रही है. संवासिनी गृह में कोरोना पॉजिटिव युवतियों का मामला सामने आने के बाद अभी तक शेल्टर होम को सील नहीं किया गया है. इस सवाल पर अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं. इधर, शेल्टर होम की बच्चियों के गर्भवती और कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद

प्रोबेशन अधिकारी ने माना है कि संवासिनी गृह (Kanpur Samvasini Grih) में क्षमता से अधिक बच्चियां रह रही हैं. मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) के बयान देने से लेकर कई अन्य नेताओं ने भी प्रशासन के रवैये पर सवाल उठाया है, लेकिन कानपुर प्रशासन अभी तक इन लापरवाहियों पर सफाई नहीं दे पाया है.

यहां तक कि डीपीओ ने यह भी कहा है कि शेल्टर होम की बच्ची के HIV संक्रमित होने की जानकारी भी पहले से नहीं थी. वहीं इस मामले पर जब न्यूज 18 ने कानपुर के जिलाधिकारी डॉ. बीडीआर तिवारी से बात करने की कोशिश की तो वे बचते नजर आए. आपको बता दें कि स्वरूप नगर स्थित राजकीय बालिका संरक्षण गृह में रविवार को 33 बच्चियों के कोरोना संक्रमित (COVID-19 Positive) होने का मामला सामने आया था. साथ ही इनमें से दो बच्चियों के 8 माह की गर्भवती होने की भी जानकारी सामने आई थी. लेकिन आज सुबह कानपुर के एसएसपी ने बताया कि शेल्टर होम में रह रहीं 57 बच्चियां कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं और इनमें से 7 गर्भवती हैं. मामले के तूल पकड़ने के बाद जब हड़कंप मचा, इसके बाद सियासी बयानबाजी शुरू हो गई है.

ये भी पढ़ें- पत्‍नी ने नहीं बनाई कड़क चाय तो पति ने चाकू से गोद कर दी हत्‍या, पुलिस ने कही ये बातएसएसपी ने कहा- पहले से थीं प्रेग्नेंट
कानपुर के एसएसपी दिनेश कुमार पी. ने सोमवार को जानकारी दी कि बालिका संरक्षण गृह में लाए जाने के समय ही ये बच्चियां गर्भवती थीं. इनमें से 5 संवासिनी आगरा, एटा, फिरोजाबाद, कन्नौज और कानपुर की हैं. एसएसपी ने बताया कि कन्नौज और आगरा से लाई गई दो संवासिनी रेस्क्यू के समय ही गर्भवती पाई गई थीं. इन्हें पिछले साल दिसंबर में लाया गया था. संरक्षण के समय से ही इन दोनों के प्रेग्नेंट होने का रिकॉर्ड है. इधर, एसएसपी के बयान देने के बाद कानपुर डीएम ने ट्वीट कर शेल्टर होम मामले में गलत सूचना फैलाने वालों को चेतावनी दी है. डीएम ने अपने ट्वीट में कहा कि प्रशासन इस संबंध में सभी तथ्य लगातार जुटा रहा है.

प्रियंका गांधी ने उठाया सवाल
इस बीच, शेल्टर होम मामले को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी सरकार पर हमला भी बोल दिया है. प्रियंका गांधी ने इस मामले को बिहार के मुजफ्फरपुर और देवरिया शेल्टर होम से जोड़ते हुए प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है. इसके जवाब में बीजेपी ने कांग्रेस को झूठा करार दिया है. प्रियंका ने इस बाबत ट्वीट कर लिखा कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह का किस्सा देश के सामने है. यूपी के देवरिया में भी ऐसा मामला सामने आ चुका है. इस तरह की घटना का फिर से सामने आना दिखाता है कि जांच के नाम पर सब कुछ दबा दिया जाता है, लेकिन सरकारी बाल संरक्षण गृहों में बहुत ही अमानवीय घटनाएं घट रही हैं. मामले को लेकर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने भी यूपी सरकार पर सवाल उठाया है. राजभर ने कहा है कि महिला सुरक्षा के दावे खोखले नजर आ रहे हैं.


First published: June 22, 2020, 5:42 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments