Home Sports News काले खिलाड़ियों की सफलता को रोकने के लिए आईसीसी लाई ये नियम!

काले खिलाड़ियों की सफलता को रोकने के लिए आईसीसी लाई ये नियम!


डैरेन सैमी ने दिया अजीबोगरीब बयान

वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान डैरेन सैमी (Darren Sammy) ने अजीबोगरीब बयान दिया है, जिसके बाद उन्हें जमकर ट्रोल किया जा रहा है.

नई दिल्ली. वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान डैरेन सैमी (Darren Sammy) इन दिनों रंगभेदी मुद्दे पर काफी बयानबाजी कर रहे हैं. हाल ही में सैमी ने आरोप लगाया था कि आईपीएल टीम सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाड़ी उन्हें कालू कहकर बुलाते थे. अब डैरेन सैमी ने एक ऐसा बयान दिया है जिसके बाद उन्हें लगातार ट्रोल किया जा रहा है.

काले खिलाड़ियों को रोकने के लिए लाया गया बाउंसर नियम?
वेस्टइंडीज को दो टी20 वर्ल्ड कप जिताने वाले पूर्व कप्तान डैरेन सैमी (Darren Sammy)  ने दावा किया है कि काले खिलाड़ियों की सफलता को रोकने के लिए आईसीसी ने नो बॉल का नियम बनाया. बता दें आईसीसी ने साल 1991 में एक ओवर में एक बाउंसर फेंकने का नियम बनाया था. लेकिन 1994 में इसे 2 बाउंसर प्रति ओवर कर दिया. साल 2001 में इसे फिर एक बाउंसर किया और 11 साल बाद इसके फिर दो बाउंसर प्रति ओवर किया गया.

डैरेन सैमी ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘जैफ थॉमसन और डेनिस लिली ने बल्लेबाजों को खूब परेशान किया. इसके बाद काली टीम अपनी रफ्तार और बाउंसर के जरिए काफी सफल रही लेकिन उसके बाद बाउंसर का नियम लाया गया, जिसके बाद काली टीम की सफलता सीमित हो गई.’बयान से पलटे थे सैमी

बता दें इसी महीने वेस्टइंडीज के क्रिकेटर डैरेन सैमी (Darren Sammy) ने ये दावा किया था कि आईपीएल के दौरान खेलते हुए उन्हें नस्लभेद का सामना करना पड़ा. उन्होंने सनराइजर्स हैदराबाद के अपने साथी खिलाड़ियों से माफी की मांग तक कर डाली थी. हालांकि इसके बाद सैमी पलट गए और उन्होंने ट्वीट कर कहा कि रंगभेद में इस्तेमाल किया जाना वाल शब्द प्यार में कहा जाता था. बता दें सैमी को हैदराबाद के खिलाड़ी कालू कहकर बुलाते थे.

टी20 वर्ल्ड कप जीतने के बाद कंधों पर मैदान से विदा हों धोनी: श्रीसंत

पुजारा के खिलाफ टीम में रची जाती थी साजिश, भुवनेश्वर कुमार ने किया खुलासा!

सैमी ने ट्वीट करके बताया था कि उन्होंने खिलाड़ियों से बातचीत की और अब वह समझ गए हैं कि लोग उन्हें प्यार से ‘कालू’ बुलाते थे. सैमी ने लिखा, ‘मुझे यह बताकर काफी खुशी हो रही है कि मैंने एक खिलाड़ी से बात की और फैसला किया कि हमें लोगों को जागरुक करना चाहिए. मेरे भाई ने मुझे भरोसा दिलाया कि उन्होंने प्यार से मुझे कालू कहा था, वो नस्लभेदी नहीं था. मुझे उनपर भरोसा है.’


First published: June 26, 2020, 8:56 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments