Home India News चीन को एक और झटका देने की तैयारी में भारत! इस कैमिकल...

चीन को एक और झटका देने की तैयारी में भारत! इस कैमिकल पर लगाएगा छल-रोधी शुल्‍क


भारत चीन से आयात किए जापने वाले एक केमिकल पर अतिरिक्‍त शुुल्‍क लगााने की तैयारी में है.

चीन (China) पर पोलिटेट्रा फ्लोरो एथलिन के आयात पर लगाए गए एंटी-डंपिंग शुल्क (Anti-Dumping Duty) से बचने के लिए धोखाधड़ी करने का आरोप है. इस मामले में वाणिज्य मंत्रालय (Commerce Ministry) की जांच इकाई डायरेक्‍टर जनरल ऑफ ट्रेड रेमेडीज (DGTR) पड़ताल कर रही है.

नई दिल्ली. भारत की ओर से चीन (India-China Rift) को हर मोर्चे पर तगड़ा झटका दिया जा रहा है. अब भारत एंटी-डंपिंग ड्यूटी (Anti-Dumping Duty) को कथित तौर पर धोखा देकर किए जाने वाले आयात (Import) से घरेलू उद्योगों को बचाने के लिये चीन से आयात किए जाने वाले एक रसायन पर छल-रोधी शुल्क (Anti Circumvention Duty) लगा सकता है. चीन से आयातित रसायन (Chemical) पोलिटेट्रा फ्लोरो एथलिन का इस्तेमाल इलेक्ट्रिकल, इलेकट्रॉनिक, मैकेनिकल और रासायनिक कार्यों में किया जाता है. चीन के अलावा ये कैमिकल कोरिया (Korea) से भी आयात किया जाता है. ऐसे में उस पर भी ये शुल्‍क लगाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- पाकिस्‍तान को FATF से नहीं मिली राहत! टेरर फंडिंग के लिए ग्रे लिस्ट में ही बना रहेगा

डीजीटीआर कर रहा है मामले की जांच
गुजरात फ्लोरोकेमिकल्स लिमिटेड (GFL) ने घरेलू उद्योगों की तरफ से इस बारे में संबंधित निदेशालय को शिकायत देकर मामले की जांच करने और जरूरी शुल्क लगाने का अनुरोध किया था. इसके बाद वाणिज्य मंत्रालय (Commerce Ministry) की जांच इकाई डायरेक्‍टर जनरल ऑफ ट्रेड रेमेडीज (DGTR) ने उस पर डंपिंग रोधी शुल्क के साथ धोखा करने के आरोपों को लेकर जांच शुरू की है. इस मामले में जांच की अवधि अप्रैल 2019 से दिसंबर 2019 होगी. जांच की अवधि के दौरान घरेलू उद्योगों (Domestic Industries) को होने वाले नुकसान के आकलन के लिए 2016 से 2019 तक के आंकड़े लिए जाएंगे.ये भी पढ़ें- IOC ने कहा- दिल्ली सरकार के राज्‍य में ज्‍यादा वैट लगाने के कारण पेट्रोल से महंगा हुआ डीजल

एंटी-डंपिंग शुल्‍क से बचने को किया धोखा
आरोप है कि रूस (Russia) और चीन से पोलिटेट्रा फ्लोरो एथलिन के आयात पर लगाए गए डंपिंग रोधी शुल्क से बचने के लिए धोखाधड़ी की जा रही है. डीजीटीआर ने अधिसूचना में कहा है कि आवेदक की ओर से शुल्क को बढ़ाने के आवेदन के आधार पर जांच की शुरुआत की जा रही है. मामले में कोरिया गणराज्य और चीन के उत्पाद शामिल हैं. अंतरराष्ट्रीय व्यापार (International Trade) के मामले में जब कोई देश या कंपनी उसके घरेलू बाजार के दाम से भी कम दाम पर उत्पाद का निर्यात करती है तो उसे माल की डंपिंग माना जाता है. ऐसे उत्पाद की डंपिंग से आयात करने वाले देश के उद्योगों और विनिर्माताओं को नुकसान होता है.


First published: June 25, 2020, 12:56 AM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments