Home India News दिल्ली में कोरोना का गहराता संकट, क्रेडिट लेने को लेकर नेताओं में...

दिल्ली में कोरोना का गहराता संकट, क्रेडिट लेने को लेकर नेताओं में रस्साकसी तेज


कोरोना को लेकर दिल्ली की सभी राजनीतिक दलों ने एक दूसरे पर निशाना साधना शुरू कर दिया है.

दिल्ली में कोरोना मरीजों (Corona Patients ) की संख्या में लगातार तेजी आ रही है. वहीं दूसरी तरफ नेताओं की बयानबाजी से साफ झलकता है कि इस महामारी में भी नेता राजनीतिक रोटी सेंकने से बाज नहीं आ रहे हैं. सत्ता पक्ष हो या विपक्ष सभा पार्टियां कोरोना पर अब सियासत शुरू कर दी है.

नई दिल्ली. कोविड-19 (COVID-19) को लेकर दिल्ली की केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) और केंद्र सरकार (Central Government)  में तनातनी खत्म नहीं हो रही है. कोरोना (Coronavirus) को लेकर दोनों के बीच सियासत चरम पर है. खासकर होम आइसोलेशन के मुद्दे पर पिछले दिनों दोनों के बीच तल्ख तेवर साफ देखे गए. पहले होम आइशोलेशन खत्म किया गया फिर उस आदेश को वापस ले लिया गया. अब इस मुद्दे पर आम आदमी पार्टी (AAP) और बीजेपी (BJP) नेताओं ने अपने-अपने तरीके भुनाना भी शूरू कर दिया है. जबकि, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) साफ कर चुके हैं कि होम आइसोलेशन पर 21 जून को बैठक में निर्णय लिया गया था, जिसकी अध्यक्षता गृह मंत्रालय ने की थी. बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, सीएम अरविंद केजरीवाल और एलजी अनिल बैजल भी उपस्थित थे.

कोरोना को लेकर दिल्ली में सियासत गर्म
पिछले कुछ दिनों से दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार तेजी आ रही है. वहीं दूसरी तरफ नेताओं की बयानबाजी से साफ झलकता है कि इस महामारी में भी नेता राजनीतिक रोटी सेंकने से बाज नहीं आ रहे हैं. सत्ता पक्ष हो या विपक्ष सभा पार्टियां कोरोना पर सियासत कर रहे हैं. कोरोना को लेकर अभी भी जमीनी स्तर पर कुछ खास अंतर नहीं दिख रहा है. दिल्ली के अस्पतालों के हालात अभी भी कुछ खास नहीं बदले हैं. वहीं नए कोविड अस्पतालों को लेकर भी राजनीति और श्रेय लेने की होड़ मची है. शुक्रवार से दिल्ली के छतरपुर में 10000 बेड का नया कोविड-केयर सेंटर शुरू हो गया. एशिया में सबसे बड़े कोविड सेंटर के रूप में विकसित किए गए अस्पताल के संचालन का जिम्मा इंडो-तिब्बत सीमा पुलिस यानी आईटीबीपी (ITBP) को दिया गया है.

COVID-19amit shah, mha, lg anil baijal, CM Arvind Kejriwal, modi government, Corona virus, Kovid-19 probe, sampling, Delhi Coronavirus cases, sanjay singh, icmr, satyendra jain, delhi lockdown, unlock, feedback, testing, private hospitals, money for admission, sir ganga ram hospital, manish sisodia, सीएम अरविंद केजरीवाल, अमित शाह, मनोज तिवारी, अरविंद केजरीवाल, अनिल बैजल, 18 हजार जांच रोज, कोरोना वायरस, कोविड-19 जांच, सैंपलिंग, सुबह, दोपहर, big relief for Delhiites Kejriwal said will fight against Coronavirus with modi government amit shah nodrss

पिछले कुछ दिनों से दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार तेजी आ रही है.

इन सब के बीच शुक्रवार को अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि हम दिल्ली में मौतों की संख्या पर लगाम कसने के लिए होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे मरीजों को ऑक्सी पल्स मीटर दिए हैं. साथ ही एलएनजेपी और राजीव गांधी अस्पताल में 200 और मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी का परीक्षण कर रहे हैं. हमें इन दो कदमों से दिल्ली में मौतों की संख्या कम होने की पूरी उम्मीद है.

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना के केस बढ़े हैं, लेकिन अभी स्थिति नियंत्रण में है. दिल्ली में अब तीन गुना अधिक जांच की जा रही है, जिससे केस अधिक दिख रहे हैं. पहले प्रतिदिन 5-6 हजार जांच होने पर दो से ढाई हजार पॉजिटिव केस आते थे और अब 18 हजार जांच होने पर 3 से 3.5 हजार केस आ रहे हैं. प्रतिदिन 3 से 3.5 हजार केस आने के बावजूद पिछले एक सप्ताह से 6 हजार के आसपास बेड की जरूरत बनी हुई है. जितने मरीज ठीक हो रहे हैं, लगभग उतने ही अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं.’

कोरोना संकट, एलएनजेपी हॉस्पिटल, दिल्ली न्यूज, दिल्ली, कोरोना संक्रमित मरीज, मृत शरीर, स्कूली छात्र, लॉकडाउन संकट, बेरोजगारी, Corona Crisis, LNJP Hospital, Delhi News, Delhi, Corona Infected Patients, Died Body, School Children, Lockdown Crisis

दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले काफी तेजी से बढ़े हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता कहते हैं, ‘कोरोना संक्रमण के मामले में दिल्ली अब मुंबई से भी आगे निकल गई है. दिल्ली की केजरीवाल सरकार समय रहते उचित कदम नहीं उठाई, जिसका नतीजा अब सामने आ रहा है. दिल्ली के अस्पतालों में अव्यवस्था फैली हुई थी. मरीजों का इलाज नहीं हो रहा था. इसे देखते ही केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को आगे आने पड़ा. इसका नतीजा सामने आ रहा है. पिछले सात दिनों में 1.33 लाख लोगों की जांच की गई है. केंद्र सरकार मुफ्त एंटीजन की सुविधा उपलब्ध कराई है. राधा स्वामी सत्संग केंद्र में दस हजार बिस्तर वाला कोविड केयर सेंटर अस्पताल शुक्रवार से शुरू हो गया है. तीनों नगर निगमों ने भी दिल्ली सरकार को 24 हजार बिस्तर उपलब्ध कराने का प्रस्ताव दिया है. अरविंद केजरीवाल की सरकार सिर्फ श्रेय लेने में लगी हुई है.

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस लॉकडाउन से रेलवे की आमदनी में आई गिरावट, अब खर्चों में कटौती के लिए बनाया नया प्लान

वहीं दिल्ली कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार चौधरी कहते हैं, ‘पिछले कई सप्ताह से हमलोग मांग कर रहे हैं कि कोरोना फैलने के स्रोतों का पता लगाने के लिए मरीजों के टेस्टिंग और कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग का पता लगाना आवश्यक है. डा0 वी.के. पॉल कमेटी ने भी कोविड-19 पर नियंत्रण के लिए उन्हीं तथ्यों को जरुरी माना है, जिन पर कांग्रेस पार्टी लगातार जोर दे रही है. पॉल कमेटी ने कांटेन्मेन्ट जोन रणनीति पर सरकार से कहा है कि वह कांटेन्मेन्ट जोन का सीमांकन करके उन सभी कांटेन्मेन्ट जोन की गतिविधियों पर सख्ती से नियंत्रण करके वहां देखरेख करे. भाजपा की सरकार और दिल्ली में केजरीवाल सरकार कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए विरोधाभास स्थिति में काम कर रही है.’


First published: June 26, 2020, 9:01 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments