Home India News दिल्ली हिंसा में कपिल मिश्रा और योगेन्द्र यादव के नाम को लेकर...

दिल्ली हिंसा में कपिल मिश्रा और योगेन्द्र यादव के नाम को लेकर चार्जशीट में SIT का बड़ा खुलासा


Demo pic.

अफवाह फैलाई गई थी कि सीएए (CAA)-एनआरसी (NRC) विरोधी प्रदर्शन के पंडाल में कपिल मिश्रा के लोग आग लगा रहे हैं.

नई दिल्ली. दिल्ली हिंसा (Delhi violence) में बीजेपी (BJP) नेता कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) और योगेन्द्र यादव की भूमिका को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की एसआईटी (SIT) ने अपनी चार्जशीट में यह खुलासा किया है. चार्जशीट हेड कांस्टेबल रतन लाल की हत्या के संबंध में तैयार की गई है. पुलिस के मुताबिक चांद बाग इलाके में हिंसा कपिल मिश्रा का नाम लेकर की गई थी. अफवाह फैलाई गई थी कि सीएए (CAA)-एनआरसी (NRC) विरोधी प्रदर्शन के पंडाल में कपिल मिश्रा के लोग आग लगा रहे हैं. लेकिन जांच में सामने आया है कि दंगाईयों की भीड़ को जमा करने के लिए यह अफवाह फैलाई गई थी.

जांच के दौरान ऐसे हुआ अफवाह का खुलासा

दिल्ली पुलिस के अनुसार जांच के दौरान कई अहम गवाह सामने आए. पुलिस को मिले गवाहों ने बताया कि चांद बाग में जिस दिन हिंसा हुई उस दिन खूब शोर किया जा रहा था. हो-हल्ला कर बताया जा रहा था कि कपिल मिश्रा के लोग पंडालों में आग लगा रहे हैं. गवाहों ने बताया कि यह शोर उन्होंने खुद सुना था. लेकिन किसी को भी पंडालों में आग लगाते हुए नहीं देखा था.

ये भी पढ़ें:- Delhi Metro में निकल रहे सांपों का क्या है रहस्य? अब मुंडका डिपो में निकले 15 से ज़्यादा सांपइस वजह से China के इस इंस्टीट्यूट में पढ़ने के लिए रखना होता है हिंदुस्तानी नाम

आरोपियों में शामिल नहीं है योगेन्द्र यादव का नाम

पुलिस की ओर से शामिल चार्जशीट की मानें तो योगेन्द्र यादव ने चांद बाग के एन्टी CAA प्रोटेस्ट में दंगों के पहले भाषण दिया था. लेकिन चार्जशीट में योगेन्द्र यादव को न तो आरोपी बनाया गया है और न ही उन्हें चार्जशीट के कॉलम 11 में शामिल किया गया है. बस उनके भाषण देने का ज़िक्र जरूर किया गया है.


First published: June 24, 2020, 12:15 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments