Home India News भारत-चीन की लड़ाई अब पहुंची बंदरगाहों पर! चाइनीज समान की हो रही...

भारत-चीन की लड़ाई अब पहुंची बंदरगाहों पर! चाइनीज समान की हो रही है बारीकी से जांच


सांकेतिक तस्वीर

India-China Standoff: पिछले कुछ दिनों से चेन्नई और मुंबई के पोर्ट पर चीन से आने वाले समानों की बारीकी से जांच हो रही है. लेकिन इसके पीछे कोई ठोस वजह नहीं बताई गई है.

नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी (Galwan Valley) में भारत के 20 सैनिकों की शहादत के बाद देश भर में लोग चीन (China) के खिलाफ आवाजें उठा रहे हैं. हर तरफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. लोग चीनी समानों को बहिष्कार करने की बात कर रहे हैं. इस बीच भारत और चीन की तनातनी बॉर्डर से बंदरगाह (Sea Ports) तक पहुंच गई है. पिछले कुछ दिनों से चेन्नई और मुंबई के पोर्ट पर चीन से आने वाले समानों की बारीकी से जांच हो रही है. लेकिन इसके पीछे कोई ठोस वजह नहीं बताई गई है.

समानों की बारीकी से हो रही है जांच
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बंदरगाहों पर कुछ अधिकारियों ने कहा है कि इंटेलिजेंस इनपुट के आधार पर कुछ समानों की बारीकी से जांच हो रही है. हालांकि लिखित तौर पर सरकार के किसी विभाग ने कुछ भी नहीं कहा है. चीन से आने वाले समानों की फिजिकल जांच की जा रही है. पहले जिन समानों को कस्टम विभाग से एक दिन में क्लीयरेंस मिल जाती थी अब उसमें 3-4 दिनों का वक्त लग रहा है.

ये भी पढ़ें:- PM मोदी आज ‘आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान’ की करेंगे शुरुआतकंपनिया कर रही हैं शिकायत

बता दें कि चीन से सामान आने में हो रही देरी को लेकर कई अमेरिकी कंपनियों ने सवाल उठाए हैं. दरअसल भारत और अमेरिकी के साझेदारी के तहत USISPF नाम की एक संस्था है. इसके तहत अमेरिकी कपंनी भारत में मैन्युफैक्चरिंग का काम करती है. इनके कई समान चीन से आते हैं. ऐसे में इन्हें काम करने में दिक्कत आ रही है. करीब 50 अमेरिकी कंपनियां भारत में दूरसंचार, ऑटोमोबाइल, चिकित्सा उपकरण और FMGC जैसे क्षेत्रों में भारत में काम करती है.


First published: June 26, 2020, 8:56 AM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments