Home Entertainment News भोजपुरी एक्ट्रेस अक्षरा सिंह ने नेपोटिज्म पर तोड़ी चुप्पी, कह डाली ये...

भोजपुरी एक्ट्रेस अक्षरा सिंह ने नेपोटिज्म पर तोड़ी चुप्पी, कह डाली ये बात


भोजपुरी एक्ट्रेस अक्षरा सिंह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं.

भोजपुरी इंडस्‍ट्री (Bhojpuri Industry) की पॉपुलर अभिनेत्री और गायिका अक्षरा सिंह (Akshara Singh) ने नेपोटिज्म से कोई बचा नहीं है. हर जगह नेपोटिज्‍म (Nepotism) है, किन फिल्म इंडस्ट्री में प्रतिभा को सम्मान मिलना भी जरूरी है.

मुंबई. अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के निधन के बाद बॉलीवुड (Bollywood) में हो रहे नेपोटिज्म में एक बहस छिड़ गई है. पूरे देश से नेपोटिज्म को लेकर प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. कंगना रनौत के नेपोटिज्म के खिलाफ आवाज उठाने के बाद कई फिल्म निर्माताओं और अभिनेता भी इसके खिलाफ खुलकर बोल रहे हैं. इस बीच भोजपुरी इंडस्‍ट्री (Bhojpuri Industry) की पॉपुलर अभिनेत्री और गायिका अक्षरा सिंह (Akshara Singh) ने भी नेपोटिज्‍म पर निशाना साधा है. अक्षरा का कहना है कि नेपोटिज्म से कोई बचा नहीं है, हर जगह नेपोटिज्‍म (Nepotism) है, किन फिल्म इंडस्ट्री में प्रतिभा को सम्मान मिलना भी जरूरी है. प्रतिभा की अनदेखी नहीं की जानी चाहिए.

भोजपुरी (Bhojpuri) एक्ट्रेस और सिंगर अक्षरा सिंह (Akshara Singh) ने कहा कि अक्सर माता पिता चाहते हैं कि अगर वे किसी क्षेत्र में सफल हैं तो उनका बच्चा भी उसी क्षेत्र में नाम कमाए. डॉक्टर अपने बच्चे को भी डॉक्टर बनाना चाहता है. इसी तरह बॉलीवुड (Bollywood) भी है, लेकिन यह भी सच है कि जो कलाकार गैर फिल्मी पृष्ठभूमि से आए उन्होंने भी अपनी प्रतिभा से इंडस्ट्री पर अपनी छाप छोड़ी है.

मनोज वाजपेयी, शत्रुध्‍न सिन्‍हा, सुशांत सिंह राजपूत, पंकज त्रिपाठी, संजय मिश्रा समेत ऐसे कई कलाकार हैं जो इंडस्ट्री में पूरी तरह से रम गए हैं. उन्होंने कहा कि जब नेपोटिज्म पर बात उठ रही है तो यह बात भी होनी चाहिए कि इंडस्ट्री में हर प्रतिभा को सम्मान मिले.ये भी पढ़ें- Video: सुशांत सिंह राजपूत ने अंकिता लोखंडे के साथ शादी की तारीख का खुलेआम किया था ऐलान

अक्षरा ने कहा कि स्‍टार किड्स को इंडस्ट्री में आने का मौका आसानी से मिल जाता है. हम सभी कलाकार जो एक्‍टर बनना चाहते हैं, प्रतिभाशाली हैं. ऐसे में सभी को मौका मिलना चाहिए। स्टार किड्स को भी स्ट्रगल से गुजरना चाहिए. उन्‍हें भी ऑडिशन देने चाहिए. अक्षरा ने कहा कि नेपोटिज्‍म से ज्‍यादा ग्रुपिज्‍म खतरनाक है. ग्रुपिज्म का शिकार छोटे से बड़े तक सभी कलाकार हो रहे हैं.


First published: June 25, 2020, 3:34 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments