Home India News मिला था कंकाल, अब पुलिस ने सुलझाई मर्डर मिस्ट्री, रुपयों के विवाद...

मिला था कंकाल, अब पुलिस ने सुलझाई मर्डर मिस्ट्री, रुपयों के विवाद में हुई थी महिला की हत्या


आरोपियों ने महिला को सीहोर से भोपाल बुलाया था, जहां गलत काम करने के बाद उनके बीच पैसे देने को लेकर विवाद हो गया

पुलिस की जांच में यह भी बात सामने आई कि मृतक कॉल गर्ल थी और इस सिलसिले में वो अक्सर भोपाल और अन्य जगह आती-जाती रहती थी

भोपाल. भोपाल पुलिस (Bhopal Police) ने एक ब्लाइंड मर्डर केस (Blind Murder Case) को सुलझाने का दावा किया. ऐसा इसलिए क्योंकि पुलिस को लाश नहीं बल्कि एक कंकाल मिला था. पुलिस ने अपनी पड़ताल में कंकाल पर मिले कपड़ों से लाश की शिनाख्त की. बाद में इस शिनाख्त को डीएनए रिपोर्ट के जरिए पुख्ता किया गया. पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

पुलिस के मुताबिक यह मामला खजूरी थाना क्षेत्र का है. एडिशनल एसपी दिनेश कौशल ने बताया कि
बीते दो अप्रैल को ग्राम भैसाखेड़ी निवासी प्रमोद साहू चिरायु अस्पताल के पीछे अपने गेंहू की फसल को हार्वेस्टर से कटवाने के लिए देखने गए थे. यहां उन्हें खेत में मानव खोपड़ी, कंकाल, कपड़े और बाल दिखा तो उन्होंने 100 नंबर डायल पर पुलिस को इसकी सूचना दी. खजूरी थाना पुलिस ने पंचनामा दर्ज करते हुए कंकाल को हमीदिया अस्पताल में पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया.

कंकाल की कॉल गर्ल के रूप में हुई शिनाख्तप्राथमिक जांच में पुलिस को पता चला कि घटनास्थल से मिले कपड़ों के अनुसार कंकाल महिला का है. पुलिस ने जांच का दायरा बढ़ाते हुए आसपास के जिले में लापता हुए लोगों की जानकारी मांगी तो सीहोर के कोतवाली थाने से कुछ लोग कंकाल से मिले कपड़े की पहचान करने के लिए खजूरी थाने पहुंचे. उन्होंने कपड़े और जूती का मिलान कर महिला की शिनाख्त अपने रिश्तेदार के रूप में की. इसके बाद पुलिस ने डीएनए रिपोर्ट की मदद से महिला की पहचान पक्का की. पुलिस की जांच में यह भी बात सामने आई कि मृतक कॉल गर्ल थी और इस सिलसिले में वो अक्सर भोपाल और अन्य जगह आती-जाती रहती थी.

पैसों के लिए हुई महिला की हत्या

मृतक के मोबाइल फोन की जांच की गई तो पुलिस को दो आरोपियों पर संदेह हुआ. पुलिस ने दोनों से खिलाफ तकनीकी साक्ष्यों (सबूतों) के आधार पर पूछताछ की. सख्ती से पूछताछ करने पर आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया. आरोपियों की पहचान इकबाल खान उर्फ निगरो और फारूख खान उर्फ फारूख मियां के रूप में हुई. इकबाल खजूरी इलाके और फारुक सूखी सेवनिया का रहने वाला है. यह दोनों दोस्त हैं और मृतका को पहले से जानते थे. वो पूर्व में कई बार उसे सीहोर से भोपाल बुला चुके थे.

यही कारण है कि घटना वाले दिन 17 मार्च को भी दोनों आरोपी बाइक से महिला को उसकी रजामंदी से खेत में ले गए। महिला के साथ गलत काम करने के बाद आरोपियों ने उसे 600 रुपए दिए. लेकिन महिला ने इससे ज्यादा रकम मांगी. इस पर उनके बीच विवाद हो गया. पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि महिला उन्हें ब्लैकमेल कर रही थी. उसने ज्यादा पैसे नहीं देने पर पुलिस में शिकायत करने की धमकी दी थी. इस डर से उन्होंने दुपट्टे से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी और मृतका का मोबाइल फोन लेकर फरार हो गए.


First published: June 24, 2020, 6:26 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments