Home Health & Fitness मॉनसून का मौसम कर सकता है आपको बीमार, जानें इस समय क्या...

मॉनसून का मौसम कर सकता है आपको बीमार, जानें इस समय क्या खाएं और क्या नहीं


मॉनसून (Monsoon) का मौसम गर्मी से तो राहत दिलाता है लेकिन अपने साथ कई तरह की बीमारियां भी लेकर आता है. इस मौसम में ज्यादातर बीमारियां अनजाने में खाने-पीने की लापरवाही की वजह से ही होती हैं. कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के प्रकोप के चलते इस बार आपको मॉनसून में अपने खान-पान पर पहले से भी ज्यादा ध्यान देने की जरूरत होगी. बारिश के मौसम में बीमारियां होने के दो बड़े कारण होते हैं पहला-बैक्टीरिया (Bacteria) और वायरस (Virus) की संख्या में इजाफा होना और दूसरा शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता कम होना यानी इम्यूनिटी पावर (Immunity Power) का कम होना. हालांकि इस समय आप कुछ चीजों को अपने खान-पान में शामिल कर अपनी इम्यूनिटी पावर को बढ़ा सकते हैं. ऐसा करने से आप न सिर्फ इस मौसम की बीमारियों बल्कि कोरोना वायरस संक्रण से भी बच सकते हैं. आइए जानते हैं मानसून में आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं.

इन खास चीजों को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें

हल्दी
हल्दी शरीर के इम्यूनिटी पावर को बढ़ाती है. इसमें मौजूद लाइपोपॉलीसकराइड नाम का पदार्थ यह काम करता है. सर्दी, जुकाम या कफ की शिकायत हो तो हल्दी वाला दूध पीना काफी लाभकारी होता है. यह पित्ताशय को उत्तेजित करती है, जिससे पाचन सुधरता है और गैस ब्लोटिंग को कम करती है. रोजाना एक गिलास दूध में सुबह के समय आधा चम्मच हल्दी मिलाकर पिएं. हल्दी का इस्तेमाल आयुर्वेदिक हर्बल दवाओं में होता है और इससे बनी औषधियां बदन दर्द, थकान दूर करने और सांस संबंधी परेशानियों में असरदार होती हैं.अदरक

अदरक विटामिन ए, सी, ई और बी कॉम्प्लेक्स का एक अच्छा माध्यम है. साथ ही इसमें मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, आयरन, जिंक, कैल्शियम और बीटा-कैरोटीन पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है. साथ ही ये जलनरोधी, एंटीफंगल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल खूबियों से भी भरपूर होता है. इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए यह एक शानदार चीज है. चाय, सूप या शहद के साथ इसका सेवन किया जा सकता है.

लहसुन
लहसुन की एक गांठ में कैल्शियम, फॉस्फोरस, लौह तत्व, विटामिन सी अधिक मात्रा में मौजूद होता है. साथ ही, कुछ मात्रा में विटामिन बी कॉम्पलेक्स भी इससे मिलता है. लहसुन बड़े स्तर पर एक एंटीबायोटिक का काम करता है. यह बैक्टीरिया-रोधी, फफूंद-रोधी, परजीवी-रोधी व वायरस-रोधी है. यह बैक्टीरिया को खत्म करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है. कहते हैं कि कच्चा लहसुन रक्त की तरलता बनाए रखता है और कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी ठीक रखता है. लहसुन दिल के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है.

काली मिर्च

इसमें विटामिन ए, ई, के, सी और विटामिन बी6, थायमीन, नियासिन, सोडियम, पोटेशियम मौजूद होता है. खांसी और जुकाम में इसका सेवन बहुत लाभकारी होता है. यह शरीर की इम्यूनिटी पावर को बढ़ाता है.

सूखा अनाज खाएं
मॉनसून के मौसम में सूखा और साबुत अनाज जैसे कि मक्का, जौ, गेहूं, बेसन, दालों और भुने भुट्टे को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें. साबुत अनाज में विटामिन ई, विटामिन बी और अन्य तत्व जैसे जस्ता, सेलेनियम, तांबा, लौह, मैगनीज और मैग्नीशियम पाए जाते हैं. इनमें फाइबर भी अधिक मात्रा में होता है, जिसे पाचन तंत्र के लिए बेहतर माना जाता है. इन दिनों इन सभी चीजों के सेवन से रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है.

शहद का सेवन
मॉनसून में शहद का सेवन किसी न किसी रूप में जरूर करना चाहिए, क्योंकि यह पाचन विकार से लड़ने और विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है. सुबह खाली पेट गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है. सबसे जरूरी बात यह है कि बरसाती मौसम में ताजा खाना खाएं, क्योंकि बासी खाना संक्रमित हो जाता है.

मौसमी फल
इन दिनों मौसमी फलों का सेवन जरूर करें. इनमें मौसम्बी, सेब, केला, नाशपाती, आंवला, पपीता, जामुन, आलूबुखारा, स्ट्रॉबेरी, आम, अनार प्रमुख हैं. ये सभी फल विटामिन सी से भरपूर होते हैं.

मॉनसून में किन चीजों का न करें सेवन

तरल पदार्थ लेने से बचें
इस मौसम में छाछ, लस्सी, जूस और दूसरे तरल पदार्थों को लेने से बचें. इनमें बैक्टीरिया पनपने का खतरा ज्यादा रहता है और पेट से जुड़ी समस्याएं भी हो सकती हैं.

कच्ची सब्जियां न खाएं
मॉनसून के मौसम में कच्ची सब्जियां, कच्चा सलाद या फलों के जूस पीने से बचें क्योंकि इस मौसम में इन्हें पचाने में शरीर को काफी दिक्कत होती है. यदि भोजन में सलाद को शामिल करना ही चाहते हैं, तो किसी भी तरह के वायरस या कीड़ों के संक्रमण से बचने के लिए उसे स्टीम्ड कर लें, फिर खाएं. हरी पत्तेदार सब्जियां खाने से भी बचें. इस मौसम में कटा हुआ फल भी ज्यादा देर तक न छोड़ें.

सी फूड न खाएं
मॉनसून में किसी भी प्रकार का सी फूड खाना शरीर के लिए हानिकारक साबित हो सकता है क्योंकि यह मछलियों और झींगों का ब्रिडिंग टाइम होता है. जिन तालाबों में ये मछलियां या झींगे पाली जाती हैं, उनका पानी भी इन दिनों साफ नहीं होता है. इनको खाने से फूड पॉयजनिंग हो सकता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments