Home Sports News लॉकडाउन की वजह से बदल जाएगी टीम इंडिया की जर्सी, 14 साल...

लॉकडाउन की वजह से बदल जाएगी टीम इंडिया की जर्सी, 14 साल बाद हटेगा ये निशान!


टीम इंडिया की जर्सी से हट सकता है ये निशान!

कोरोना वायरस के चलते जो लॉकडाउन लगाया गया, उसकी वजह से अब टीम इंडिया (Indian Cricket Team) की जर्सी बदल सकती है

नई दिल्ली. टीम इंडिया की नीले रंग की जर्सी पर एक निशान पिछले 14 सालों से है. धोनी, विराट, रोहित शर्मा जब भी मैदान पर उतरते हैं तो उनकी जर्सी पर वो निशान हमेशा चमकता रहता है लेकिन अब 14 साल बाद वो लोगो टीम इंडिया (Team India) की जर्सी से हट सकता है. हम बात कर रहे हैं बीसीसीआई की किट पार्टनर नाइकी की, जिसका कॉन्ट्रैक्ट बीसीसीआई के साथ खतरे में पड़ गया है. इसकी वजह कोरोना वायरस के चलते हुआ लॉकडाउन भी है. आइए आपको बताते हैं आखिर मामला क्या है?

नाइकी और बीसीसीआई का रिश्ता हो सकता है खत्म
इकोनॉमिक्स टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय क्रिकेट टीम जल्द ही जर्सी पार्टनर नाइकी को अलविदा कह सकती है. इसकी वजह बीसीसीआई और नाइकी के बीच कॉन्ट्रैक्ट विवाद है. बता दें नाइकी की बीसीसीआई से मौजूदा डील सितंबर में खत्म हो रही है. नाइकी (Nike) ने चार साल की डील के लिए 370 करोड़ रुपये दिये थे. जिसमें 85 लाख प्रति मैच फीस थी और साथ ही 12-15 करोड़ की रॉयल्टी भी इसमें शामिल थी. लेकिन कोरोना वायरस फैलने के बाद नाइकी को खासा नुकसान हुआ है. लॉकडाउन की वजह से मैच रद्द हुए और अब नाइकी चाहती है कि उसका करार बीसीसीआई बढ़ाई. सूत्रों के मुताबिक बोर्ड इसके लिए तैयार नहीं है और वो जल्द ही इसके लिए नया टेंडर ला सकती है.

बता दें लॉकडाउन के दौरान टीम इंडिया के 12 इंटरनेशनल मैच रद्द हुए हैं. जिसमें साउथ अफ्रीका के खिलाफ सीरीज शामिल है. साथ ही टीम इंडिया को श्रीलंका दौरे पर भी जाना था. जिम्बाब्वे से भी उसे सीरीज खेलनी थी. डील के मुताबिक नाइकी कंपनी टीम इंडिया को जूते, जर्सी और दूसरा साजो-सामान मुफ्त में मुहैया कराती है. साथ ही टीम इंडिया की जर्सी पर उनका लोगो रहता है. बता दें नाइकी और बीसीसीआई के बीच साल 2006 में पहली बार डील हुई थी, तभी से ये कंपनी टीम इंडिया को जर्सी और जूते मुहैया करा रही है, लेकिन अब ये बीसीसीआई और नाइकी का रिश्ता टूटने की कगार पर पहुंच गया है.टी20 वर्ल्ड कप जीतने के बाद कंधों पर मैदान से विदा हों धोनी: श्रीसंत

‘स्टीव स्मिथ को संभाल लेगा भारत, ऑस्ट्रेलिया में रोहित शर्मा कर सकते हैं कमाल’

बता दें बाजार के एक्सपर्ट्स का मानना है कि बीसीसीआई शायद ही नाइकी को कोई रियायत देगी और ना ही वो उसे डिस्काउंट देगी. हालांकि एक्सपर्ट्स का मानना है कि बीसीसीआई को कंपनियों की मजबूरी समझनी जरूरी है क्योंकि ऐसे हालात बाजार में पहली बार हुए हैं. देखते हैं नाइकी और बीसीसीआई की डील का क्या होता है.


First published: June 26, 2020, 7:40 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Mann Ki Baat Highlight: मन की बात में पीएम मोदी बोले- हमारे किसान आत्मनिर्भर भारत का आधार हैं

11:42 am (IST) लखनऊ के ‘इरादा फार्मर प्रोडयूसर’ किसान समूह की कहानी... इन्होंने भी, lockdown के दौरान किसानों के खेतों से, सीधे, फल और सब्जियाँ ली, और, सीधे जा करके, लखनऊ के बाज़ारों में बेची - बिचौलियों से मुक्ति हो गई और मन चाहे उतने दाम उन्होंने प्राप्त किये- पीएम मोदी 11:41 am (IST) ग्रामीण-युवा, सीधे बाज़ार में, खेती और बिक्री की प्रक्रिया में शामिल होते हैं - इसका सीधा लाभ किसानों को होता है, गाँव के नौजवानों को रोजगार में होता है. 11:40 am (IST)  पुणे और मुंबई में किसान साप्ताहिक बाज़ार खुद चला रहे हैं. इन बाज़ारों में, लगभग 70 गाँवों के, साढ़े चार हज़ार किसानों का उत्पाद, सीधे बेचा जाता है -...

Recent Comments