Home India News सीमा पर तनाव खत्म करने के लिए भारत और चीन के बीच...

सीमा पर तनाव खत्म करने के लिए भारत और चीन के बीच आज होगी डिप्लोमैटिक चैनल के जरिए बातचीत


भारत और चीन के सैनिकों के बीच LAC पर 15 जून की रात हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे.

India China Rift: पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में स्थिति तब बिगड़ गई थी जब करीब 250 चीनी और भारतीय सैनिकों (India China Border) के बीच पांच और छह मई को हिंसक झड़प हुई. पैंगोंग सो के बाद उत्तरी सिक्किम (North Sikkim) में नौ मई को झड़प हुई थी.

नई दिल्ली. भारत और चीन (India China Rift) की सेना के बीच पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले सभी जगहों से ‘हटने पर परस्पर सहमति’ बनने की खबरों के एक दिन बाद अब दोनों देश वर्किंग मकैनिज्म फॉर कंसल्टेशन एंड कोऑर्डिनेशन (WMCC) के तहत बातचीत करेंगे. WMCC को साल 2012 में बनाया गया था.

WMCC का गठन भारत-चीन सीमा क्षेत्रों में शांति के लिए बातचीत और समन्वय के साथ-साथ अपने सीमा सुरक्षा कर्मियों के बीच संचार और सहयोग को मजबूत करने पर विचारों को जानने के लिए किया गया था. WMCC की वर्चुअल बैठक बुधवार को होगी.

‘कमांडरों की बैठक के बाद मौके पर और फोर्स नहीं भेजी गई’
हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार
एक सैन्य कर्मी ने नाम ना प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि ‘दोनों पक्षों के बीच एक-दूसरे से जुड़े मुद्दे पर विचार-विमर्श के बाद आपसी मतभेद को खत्म करने पर सहमति बनी है. इस प्रक्रिया में कुछ हफ्ते लग सकते हैं क्योंकि मौके पर मौजूद कमांडरों को हर दिन के डिसइंगेजमेंट को वेरिफाइ करना होगा. यह सच है कि 15 जून के गलवान में हुई झड़प के बाद चीनी और भारतीय सेना ने बल प्रयोग किया. 22 जून के सैन्य कमांडरों की बैठक के बाद मौके पर और फोर्स नहीं भेजी गई है.’एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘जब तक यथास्थिति बहाल नहीं होती तब तक के लिए यह लंबी कवायद है.’  बता दें पूर्वी लद्दाख में पिछले छह हफ्तों से चल रहे गतिरोध में उलझे बलों को पीछे हटाने का फैसला सोमवार को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन की तरफ मोलदो में भारत और चीन के वरिष्ठ कमांडरों के बीच करीब 11 घंटे चली बैठक में लिया गया.

सभी स्थानों से हटने के तौर तरीकों को अमल में लाएंगे दोनों पक्ष
सूत्रों ने लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर हुई दूसरी बैठक का ब्योरा देते हुए बताया कि वार्ता ‘सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक और रचनात्मक माहौल’ में हुई और यह निर्णय लिया गया कि दोनों पक्ष पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले सभी स्थानों से हटने के तौर तरीकों को अमल में लाएंगे.

एक सूत्र ने कहा, ‘पीछे हटने को लेकर परस्पर सहमति बनी है. पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले सभी स्थानों से हटने के तौर-तरीकों पर चर्चा की गई और दोनों पक्ष इसे अमल में लाएंगे.’ बीजिंग में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि स्थिति सहज बनाने के लिए जरूरी कदम उठाने तथा लंबित मुद्दों पर दोनों पक्षों के बीच ‘स्पष्ट और गहराई’ से बातचीत हुई. सूत्रों ने कहा कि वहां तैनात कमांडर पीछे हटने की विस्तृत रुपरेखा को अंतिम रूप देने के लिए अगले कुछ हफ्तों में कई बैठकें करेंगे. (भाषा इनपुट के साथ)


First published: June 24, 2020, 12:45 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments