Home India News सोने की तस्करी से जुड़े मामले में संदिग्ध IAS अधिकारी को केरल...

सोने की तस्करी से जुड़े मामले में संदिग्ध IAS अधिकारी को केरल CMO से हटाया


केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन

तिरुवनंतपुरम. केरल में सोने की तस्करी मामले में एक कर्मचारी को बचाने की कोशिश के आरोप में मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के कार्यालय में कार्यरत एक IAS अधिकारी को हटा दिया गया है. बता दें राज्य में विपक्षी दलों ने इस मामले को लेकर सीएमओ पर निशाना साधा था. सीमा शुल्क विभाग द्वारा 4 जुलाई को जब्त किए गए 30 किलो सोने की तस्करी के कथित संबंध के बाद अधिकारी से सरकार द्वारा किये गये कॉन्ट्रैक्ट को निलंबित कर दिया गया था.  हालांकि मुख्यमंत्री ने इन आरोपों से इनकार किया.

सीमा शुल्क दल द्वारा तिरुवनंतपुरम हवाई अड्डे पर 15 करोड़ रूपये मूल्य का सोना जब्त किये जाने के बाद एक वरिष्ठ सीमा शुल्क अधिकारी ने बताया कि उनका विभाग इस बात की जांच कर रहा है कि कैसे अनधिकृत लोग कार्गो को मंजूरी देने से संबद्ध हो सकते हैं.

एयर कार्गो से राजनयिक बैग से यह सोना पहुंचा था. जब विजयन से विपक्ष के आरोपों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने मीडिया से कहा कि उन्हें उसकी नियुक्ति से जुड़े मामलों की जानकारी नहीं है, इसे देखा जाएगा.

उन्होंने विपक्ष के आरोपों पर जवाब दिया कि मुख्यमंत्री कार्यालय ने किसी भ्रष्टाचार में शामिल लोगों के साथ कभी कोई संवाद नहीं किया और राज्य की जनता यह जानती है. उन्होंने कहा कि इसमें शामिल नहीं बच पायेंगे.मामले के एक आरोपी और यूएई में तिरुवनंतपुरम  के पूर्व जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) सरित कुमार को सोमवार को गिरफ्तार किए जाने के बाद मामले में 14 दिनों के लिए रिमांड पर लिया गया है.  हालांकि, सीमा शुल्क विभाग के सूत्रों ने पुष्टि की है कि एक अन्य महिला स्वप्ना सुरेश  भी इस मामले में संदेह के घेरे में है. महिला ने सोने से भरे बैग पर अपना दावा किया था.

स्वप्ना सुरेश यूएई वाणिज्य दूतावास में एक पूर्व कर्मचारी भी थी. इसके साथ ही वह केरल सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी विभाग से जुड़ी कंपनियों में से एक की पीआरओ पद पर भी काम कर रहीं थीं.  मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने बताया ‘गंभीर आरोपों के बाद संबंधित व्यक्ति का अनुबंध समाप्त कर दिया गया है.’

वरिष्ठ कांग्रेस नेता रमेश चेन्नितला ने यह आरोप लगाते हुए इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की कि मुख्यमंत्री कार्यालय ‘अपराधियों का अड्डा’ बन गया है. भाजपा प्रमुख के सुरेंद्रन ने आरोप लगाया कि सीमाशुल्क अधिकारियों को इस जब्ती के तुरंत बाद मुख्यमंत्री कार्यालय से फोन आया था.

 

First published: July 7, 2020, 1:26 PM IST





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments