Home Make Money स्विस बैंकों में घटी भारतीय लोगों की डिपॉजिट, 30 साल में तीसरी...

स्विस बैंकों में घटी भारतीय लोगों की डिपॉजिट, 30 साल में तीसरी बार सबसे कम आंकड़ा


नई दिल्ली. स्विस बैंकों (Swiss Banks) और उसकी भारतीय शाखाओं में भारत के लोगों और कंपनियों का जमा धन 2019 में 6 प्रतिशत घटकर 89.9 करोड़ स्विस फ्रैंक (6,625 करोड़ रुपये) रह गया. स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक एसएनबी के गुरुवार को जारी सालाना आंकड़ों से यह पता चला है. यह लगातार दूसरा साल है जब स्विस बैंकों में भारतीयों के जमा धन कम हुए हैं. स्विस नेशनल बैंक (SNB)ने 1987 से आंकड़ों का संग्रह शुरू किया, तब से यह तीन दशक से भी अधिक समय में तीसरे सबसे न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया.

क्या कहता है 2019 का नया आंकड़ा?
एसएनबी के अनुसार 2019 के अंत में स्विस बैंकों के ऊपर भारतीयों की कुल 89.946 करोड़ स्विस फ्रैंक की देनदरी थी. इसमें 55 करोड़ स्विस फ्रैंक (CHF) (4,000 करोड़ रुपये से अधिक) ग्राहकों के जमा, 8.8 करोड़ स्विस फ्रैंक (650 करोड़ रुपये) दूसरे बैंकों के जरिये जमा तथा 25.4 करोड़ स्विस फ्रैंक (1,900 करोड़ रुपये) अन्य राशि प्रतिभूतियों और अन्य वित्तीय उत्पादों के रूप में हैं. इसके अलावा 74 लाख स्विस फ्रैंक (50 करोड़ रुपये) ट्रस्ट के जरिये जमा हैं. इन सभी चारों श्रेणी में जमा में गिरावट दर्ज की गयी.

कालेधन को लेकर कोई संकेत नहींये आधिकारिक आंकड़े हैं जो बैंकों ने SNB को दिये हैं. यह स्विट्जरलैंड में जमा भारतीयों के कालाधन का संकेत नहीं देते जिसको लेकर चर्चा होती रही है. इन आंकड़ों में उन भारतीयों, प्रवासी भारतीयों या अन्य के धन शामिल नहीं है जो स्विस बैंकों में तीसरे देशों की इकाइयों के नाम पर रखे गये हों.

यह भी पढ़ें: निर्मला सीतारमण ने कहा- आयात करना गलत नहीं लेकिन चीन से क्यों खरीदें गणेश मूर्ति?

देनदारी में सभी प्रकार के खाते शामिल
SNB के अनुसार स्विस बैंकों की भारतीय ग्राहकों को लेकर देनदारी में सभी प्रकार के खातों को लिया गया है. इसमें व्यक्तिगत रूप से बैंकों और कंपनियों की जमा राशि शामिल हैं. इसमें स्विस बैंकों में भारत में स्थित शाखाओं के आंकड़े भी शामिल हैं.

इससे पहले, भारतीय और स्विस प्राधिकरणों ने कहा था कि भारतीयों के जमा के बारे में आकलन का अधिक भरोसेमंद तरीका बैंक ऑफ इंटरनेशनल सेटलमेंट (BIS) के ‘लोकेशनल बैंकिंग स्टैटिसटिक्स’ ने दिया है. इसके अनुसार 2019 में यह मामूली 0.07 प्रतिशत बढ़कर 9.06 करोड़ डॉलर (करीब 646 करोड़ रुपये) रहा.

स्विस प्राधिकरण हमेशा कहते रहा है कि भारतीयों के स्विट्जरलैंड में जमा धन को ‘काला धन’ नहीं कहा जा सकता है और वे कर चोरी और धोखाधड़ी के खिलाफ अभियान में भारत का पूरा समर्थन करते हैं.

यह भी पढ़ें: सरकार ने दी बड़ी राहत! LTA क्लेम करने के लिए बोर्डिंग पास देने की जरूरत नहीं

भारत से सूचना शेयर करता है स्विट्जरलैंड
भारत और स्विट्जरलैंड के पास कर मामलों के सूचना के स्वत: आदन-प्रदान की व्यवस्था 2018 से है. इस व्यवस्था के तहत सभी भारतीय निवासियों के जिनके खाते स्विस वित्तीय संस्थानों में 2018 से है, उसके बारे में विस्तृत वित्तीय सूचना भारतीय कर प्राधिकरणों को पहली बार सितंबर 2019 में दी गयी है और इसका अनुपालन हर साल किया जाएगा.

इसके अलावा स्विट्जरलैंड उन भारतीयों के खातों के बारे में भी ब्योरा साझा करता है जिन पर वित्तीय गड़बड़ियों में शामिल होने का आरोप है. इसके लिये प्रथम दृष्ट्या साक्ष्य देना होता है.

स्विस बैंकों में 1995 में थी सबसे कम राशि
एसएनबी के पास 1987 से उपलब्ध आंकड़े के अनुसार स्विस बैंकों में भारतीयों के सबसे कम राशि 1995 में देखी गयी जो 72.3 करोड़ स्विस फ्रैंक थी. उसके बाद 2016 में यह 67.6 करोड़ स्विस फ्रैंक रही. वहीं 2006 में यह सर्वाधिक 6.5 अरब स्विस फ्रैंक पर पहुंच गई. उसके बाद इसमें लगातार पांच साल गिरावट आयी. रिकार्ड स्तर के बाद यह केवल 2011 (12 प्रतिशत), 2013 (43 प्रतिशत) और उसके बाद 2017 में बढ़ी.

यह भी पढ़ें: ऐप के जरिए लोन लेने वालों के लिए बड़ी खबर! RBI ने जारी किए नए नियम

पाकिस्तान और बांग्लादेश के नागरिकों का जमा राशि भी घटी
आंकड़ों के अनुसार पिछले साल स्विटजरलैंड के बैंकों में पाकिस्तान और बांग्लादेश के नागरिकों और कंपनियों की जमा राशि भी घटी है. वहीं अमेरिका और ब्रिटेन के लोगों की स्विस बैंकों में जमा राशि बढ़ी है. स्विस बैंक में पाकिस्तानियों का धन करीब 45 प्रतिशत घटकर 41 करोड़ स्विस फ्रैंक (करीब 3,000 करोड़ रुपये) रह गया. वहीं बांग्लादेश का पैसा 2 प्रतिशत घटकर 60.5 करोड़ स्विस फ्रैंक (करीब 4,500 करोड़ रुपये) रहा.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments