Home India News Covid 19: अपने आप ही ठीक हो रहे कोरोना संक्रमित, जानें कैसे

Covid 19: अपने आप ही ठीक हो रहे कोरोना संक्रमित, जानें कैसे


हाल ही में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) की एक रिपोर्ट मीडिया में आई थी, जिसमें कहा गया था कि देश के हॉटस्पॉट (Covid 19 Hotspot Zones) इलाकों और संक्रमित क्षेत्रों (Containment zones) में रहने वाले 30 फीसदी लोग कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में आ चुके हैं और बिना जानकारी तथा इलाज के ठीक भी हो चुके हैं. आज यही सवाल कई लोगों के मन में उठ रहा है.  आशंका है कि कहीं उन पर भी तो कोरोना वायरस (Covid 19) ने हमला नहीं बोला था? इसका पता कैसे लगाया जाए?

myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन का कहना है कि कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति छींकता या खांसता है तो उसके मुंह और नाक से द्रव की अतिसूक्ष्म बूंदें हवा में मिल जाती हैं और इन बूंदों में कोरोना वायरस भी होता है.  अब ऐसी संक्रमित हवा में कोई स्वस्थ व्यक्ति सांस लेता है तो हवा के जरिए वायरस उसके शरीर में पहुंच जाता है और संक्रमण पैदा करता है.  यह संभव है कि व्यक्ति संक्रमण का शिकार हुआ हो, लेकिन इससे लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत थी और साथ ही एंटीबॉडी विकसित की थी.  या फिर ऐसा भी हो सकता है कि जिस वायरस ने हमला किया हो, वह कम हानिकारक था.  यहां जानिए ऐसे कुछ संकेत जो संभावित संक्रमण की ओर इशारा करते हैं :

बहती नाक, बुखार और गले में खराश : मौसम के बदलाव के साथ नाक बहना या एलर्जी होना बहुत आम है.  कोविड-19 के इस माहौल में लक्षणों को अच्छी तरह से देखना महत्वपूर्ण है.  यदि बहती नाक या गले में खराश के साथ शरीर का तापमान बढ़ा हो या सूखी खांसी है, तो संकेत हो सकता है कि यह फ्लू वास्तव में कोरोना वायरस संक्रमण हो.

गंध या स्वाद महसूस नहीं हुआ : युवा मरीजों में खांसी और बुखार जैसे लक्षण नहीं हो सकते हैं, लेकिन वे गंध और स्वाद को महसूस करने की शक्ति खोने का अनुभव कर सकते हैं, जिससे पता चलता है कि ये वायरस नाक में जमा हो रहे हैं.  अब तो स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी कोरोना वायरस के लक्षणों में इन दोनों संकेतों को शामिल कर लिया है.सिरदर्द की परेशानी : यूं तो सिरदर्द आम समस्या हो सकती है, लेकिन लगातार तेज दर्द चिंता का कारण बन सकता है.  तीव्र सिरदर्द साइटोकिन्स के उत्पादन का नतीजा हो सकता है, जो कि इम्यून सिस्टम के वायरल हमले से लड़ने के लिए तैयार होने की वजह से हो सकता है.

सांस लेने में तकलीफ़ : कोविड-19 के सबसे प्रमुख लक्षणों में से एक है सांस फूलना या सांस लेने में तकलीफ.  संक्रमण का कारण बनने वाला वायरस एसएआरएस-सीओवी2 श्वसन पथ पर हमला करता है और फेफड़े के आस-पास की पतली परत को नुकसान पहुंचाता है, जिससे सांस संबंधी परेशानियां खड़ी होती हैं.  इसकी वजह से सूखी खांसी, सांस लेने में कठिनाई, हृदय गति बढ़ सकती है.  myUpchar से जुड़े डॉ. आयुष पांडे का कहना है कि सांस लेने में तकलीफ होने पर चक्कर आना, तेज-तेज सांस चलना, पसीना आना, छाती में दर्द, खांसी आना, दिल की धड़कन तेज होना, सांस लेने में आवाज आना जैसी समस्या हो सकती है.

त्वचा पर घाव : बच्चों ही नहीं, वयस्कों के शरीर पर भी शीतदंश जैसे दिखने वाले घाव भी एक संकेत हैं.  संक्रमण तब होता है जब रक्त प्रवाह बाधित होता है और रक्त का थक्का बन जाता है या त्वचा पर घाव हो जाता है.  कभी-कभी पैर की अंगुलियों और पैरों में सूजन भी दिखाई दे सकती है.

चक्कर आना : कोरोना वायरस न्यूरोलॉजिकल लक्षण भी दिखा सकता है.  इससे चक्कर और कमजोर महसूस हो सकती है.  बेचैनी, थकान तब महसूस हो सकती है जब शरीर में पानी की कमी हो या पोषक तत्वों की कमी.

पिंक आई : वायरस आंखों के तरल पदार्थ से भी फैल सकता है और आंखों को प्रभावित कर सकता है.  पिंक आई कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने वाले लोगों में आमतौर पर देखा जाना लक्षण है.

पाचन तंत्र पर असर : किसी फ्लू में सर्दी, खांसी, बुखार, कमजोरी और थकान होती है लेकिन यह नया वायरस पाचन तंत्र को भी प्रभावित कर सकता है.  कब्ज, मितली या दस्त महसूस करना आम है और कई लोगों ने बुखार से पहले पेट की समस्याओं की शिकायत की थी.

मांसपेशियों में ऐंठन : सेंटर ऑफ डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार, कोरोना वायरस शरीर को एक से अधिक तरीकों से प्रभावित करता है.  इससे कमजोरी महसूस हो सकती है.  रक्त प्रवाह कम होने से दर्द, मांसपेशियों में ऐंठन कोरोना वायरस का एक सामान्य लक्षण हो सकता है.

उपरोक्त में से कोई भी लक्षण नजर आ रहा है तो जरूरी नहीं कि कोरोना वायरस ही हो, लेकिन सावधानी बरतना शुरू कर देना चाहिए.  अच्छा खाएं, स्वस्थ्य जीवनशैली अपनाएं, पर्याप्त नींद लें, आराम करें.  यदि समस्या बनी रहती है तो तत्काल डॉक्टर से सम्पर्क करें.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, ये हैं कोविड-19 के चरण, लक्षण, उपचार और दवा पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।<

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments