Home Health & Fitness Sunday Special: कोरोना काल में मानसिक तकलीफों को रखें दूर, Don't Worry...

Sunday Special: कोरोना काल में मानसिक तकलीफों को रखें दूर, Don’t Worry Be Happy


कोरोना (Corona) काल में चल रहा लॉकडाउन (Lockdown) भले ही धीरे-धीरे अनलॉक (Unlock) हो रहा हो लेकिन पिछले 4 महीनों से घर में बंद लोग तनाव (Stress) की स्थिति से गुजर रहे हैं. कोरोना संक्रमण के फैलने के डर से लेकर वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) करने की चिंता लोगों में स्ट्रेस को बहुत अधिक बढ़ा रही है. लोग अपने परिवार, काम और बच्चों को लेकर टेंशन (Tension) में नजर आ रहे हैं. सिर्फ इतनी ही नहीं लोग दिन-रात टीवी और सोशल मीडिया (Social Media) पर कोरोना से संबंधित खबरों को देख और पढ़ भी रहे हैं. ऐसे में मन में बेचैनी और चिढ़चिढ़ापन व मानसिक तनाव जैसी समस्याएं सामने आना एक सामान्य बात है.

कोरोना वायरस के खौफ से लोगों के मन में नकारात्मकता देखी जा रही है. इस वक्त पूरे समय घर पर रहने से न ही शारीरिक एक्टिविटी हो पा रही है और न ही मानसिक सूकून मिल रहा है. इस मुश्किल घड़ी में चिंता को दूर कर खुश रहने की जरूरत है. खुद के लिए और अपने आसपास के लोगों के लिए खुशनुमा माहौल बनाने की जरूरत है. आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे उपायों के बारे में जिनकी मदद से आप इस संकट की घड़ी में अपना मानसिक तनाव दूर करने के साथ साथ खुश रह सकते हैं.

जमकर मेडिटेशन और एक्सरसाइज करें
मेडिटेशन और एक्सरसाइज मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने में मदद करते है. वहीं नकारात्मक विचार भी मन में नहीं आते जिससे मानसिक रूप से खुद को स्वस्थ तो रख ही सकते हैं, साथ ही सूकून भी मिलता है. इस वक्त में सभी लोगों को मेडिटेशन की बहुत जरूरत है ताकि वह खुद को नेगेटिव विचारों से दूर रख सकें. नकारात्मक सोच को खुद पर हावी न होने दें. मेडिटेशन और एक्सरसाइज से कई फायदे होते हैं जैसे भावनात्मक स्थिरता में सुधार, रचनात्मकता में वृद्धि, प्रसन्नता में संवृद्धि, मानसिक शांति और स्पष्टता, परेशानियों का छोटा होना.सोशल मीडिया को दोस्त बनाएं, उसकी आदत न लगाएं

कोरोना से संबंधित खबरों की नकारात्मकता से बचना चाहते हैं तो सबसे पहले सोशल मीडिया से दोस्ती करें लेकिन उसकी आदत से बाहर निकलें. दरअसल दिन-रात सिर्फ यही खबरें पढ़कर व सुनकर आप परेशान हो सकते हैं इसलिए थोड़ी दूरी बनानी जरूरी होती है. सोशल मीडिया का सकारात्मक रूप से अस्तेमाल करें. अच्छी चीजें पढ़ें और देखें. मन में पॉजिटिविटी लाएं.

अकेले न रहें, परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताएं
इस समय खुद को मोबाइल के साथ ही व्यस्त न रखें बल्कि अपने परिवार के साथ अच्छा वक्त बिताएं. अगर आप अकेले बैठते हैं तो कई तरह के नकारात्मक विचार मन में आते हैं. इनसे बचने के लिए परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताएं. हालांकि सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखें. दोस्तों से मिलते वक्त मास्क जरूर पहनें. अगर घर में बच्चे हैं तो उनके साथ ड्रॉइंगल या पेंटिंग करें और जमकर गेम्स खेलें.

म्यूजिक सुनें और किताबें पढ़ें

कहते हैं म्यूजिक और बुक स्ट्रेस बूस्टर का काम करते हैं. ये आपके सच्चे दोस्त बन सकते हैं. इसलिए म्यूजिक जरूर सुनें और अच्छी किताबें जरूर पढ़ें. यदि रात में नींद नहीं आ रही है और बुरे ख्याल आपको परेशान कर रहे हैं तो इस समय भी अपने पसंदीदा संगीत को सुना जा सकता है. साथ ही अपेन पंसद की किताब को भी पढ़ा जा सकता है.

इन छोटी छोटी बातों का जरूर रखें ख्याल

-लोगों को ज्यादा से ज्यादा समय रचनात्मक एवं सृजनात्मक कार्यों में जरूर व्यतीत करना चाहिए.
-अधिकतर समय परिवार, दोस्त, सहकर्मी के साथ बिताए, एक-दूसरे का ख्याल रखें. उनसे अपनी मन की बात शेयर जरूर करें.
-रूचि के अनुरूप वाले काम में वक्त बिताए, जिससे आपको खुशी मिले.
-शराब, तंबाकू, सिगरेट, पान मसाला, किसी भी प्रकार के नशे के सेवन से बचें.
-सोशल मीडिया द्वारा फैलाए जा रहे भ्रामक अफवाहों से दूरी बनाए रखें.
-नियमित दिनचर्या को बनाए रखें. हमेशा की तरह समय पर सोकर पर्याप्त नींद ले और संतुलित डाइट का सेवन करें.
-थोड़ा समय योग, ध्यान और एक्सरसाइज करने में जरूर लगाएं. इससे शरीर में धनात्मक ऊर्जा का संचार होगा.  (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments