Home Blog

ग्रामीणों पर आरोप, झाड़-फूंक करने वाले शख्स को जहर देकर मार डाला…

0


वृद्ध की मौत के बाद उसके घर के बाहर ग्रामीणों का मजमा लग गया

मृतक के पुत्र संजय ऋषि और पुत्र-वधु फुलो देवी ने बताया कि बैजनाथ ऋषि गांव में ही ओझा गुनी का काम करते थे, लेकिन बीते दिनों से ही कुछ लोग उनसे नाराज थे जिसे लेकर आज कहा-सुनी हुई थी जिसके बाद उन लोगों ने मैला के साथ जहर मिला कर वृद्ध को पिलाया जिससे उनकी मौत हो गई.

कटिहार. जनपद में एक वृद्ध शख्स को कुछ लोगों द्वारा जहर (poisoning) देकर मार दिया गया. मृतक के परिजनों गांव के ही एक दर्जन से अधिक लोगों पर आरोप है कि उन्होंने वृद्ध को मैला में जहर मिला कर पिला दिया जिससे उसकी मौत (Death) हो गई. मृतक के परिजनों की शिकायत पर पुलिस (Police) ने केस दर्ज कर लिया है और आरोपियों की तलाश की जा रही है. वृद्ध के शव को पोस्टमार्टम (Postmortem) के लिए भिजवाया गया है.

परिजनों के आरोप
रिपोर्ट के मुताबिक मृतक बैजनाथ ऋषि झाड़-फूंक का काम करता था, परिजनों का कहना है कि उसने झाड़-फूंक से कई लोगों को स्वस्थ भी किया है. लेकिन गांव के कुछ लोग उनसे नाराज थे उसी अनुक्रम में आज उनकी हत्या कर दी गई. कोढ़ा थाना क्षेत्र के छोटी परमानंदपुर गांव के इस मामले में मृतक के पुत्र संजय ऋषि और पुत्र-वधु फुलो देवी ने बताया कि बैजनाथ ऋषि गांव में ही ओझा गुनी का काम करते थे, लेकिन बीते दिनों से ही कुछ लोग उनसे नाराज थे जिसे लेकर आज कहा-सुनी हुई थी जिसके बाद उन लोगों ने मैला के साथ जहर मिला कर वृद्ध को पिलाया जिससे उनकी मौत हो गई.

ये भी पढ़ें- दर्दनाक हादसा: रोहतास में एक ही परिवार के चार बच्चों की तालाब में डूबने से मौत

परिजनों ने इस मामले में भिखारी ऋषि, सिकंदर ऋषि, प्रेम ऋषि, पप्पू ऋषि, सुनील ऋषि सहित 15 से 20 लोगों पर बुजुर्ग की हत्या का आरोप लगाया है. घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है. कोढ़ा थाना प्रभारी रबिन्द्र कुमार के मुताबिक मामले की जांच की जा रही है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत किस प्रकार हुई इस पर कुछ कहा जा सकता है. उन्होंने कहा कि परिजनों की तहरीर पर केस दर्ज कर लिया गया है. आरोपी फरार हैं उनकी तलाश की जा रही है.





Source link

तमिलनाडु में सहकारिता मंत्री सेल्लूर राजा भी कोरोना पॉजिटिव, अब तक 3 मंत्री संक्रमित

0


तमिलनाडु में सहकारिता मंत्री सेल्लूर राजा भी कोरोना पॉजिटिव (सांकेतिक तस्वीर)

पलानीस्वामी (K. Palaniswami) ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि जब उन्हें यह पता चला कि सेल्लूर के राजू और उनकी पत्नी के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है तो उन्होंने राजू से फोन पर बात की और उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की.

चेन्नई. तमिलनाडु (Tamil Nadu) के सहकारिता मंत्री एवं अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता सेल्लूर के राजू कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित पाये गए हैं. यह जानकारी सरकार ने शुक्रवार को दी. राजू संक्रमित पाये गए तीसरे मंत्री हैं और उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एवं अन्नाद्रमुक सह-संयोजक के. पलानीस्वामी (K. Palaniswami) ने राजू और उनकी पत्नी के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है. राजू की पत्नी भी कोविड-19 से संक्रमित पायी गई हैं.

पलानीस्वामी (K. Palaniswami) ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि जब उन्हें यह पता चला कि सेल्लूर के राजू और उनकी पत्नी के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है तो उन्होंने राजू से फोन पर बात की और उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की. उप मुख्यमंत्री एवं अन्नाद्रमुक संयोजक ओ पनीरसेल्वम ने कहा कि वह राजू के जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना करते हैं.

और ऊर्जा मंत्री पी. तंगमणि भी संक्रमित

पनीरसेल्वम ने साथ ही लोगों से अपील की कि वे अत्यंत सावधानी बरतें. द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन ने कहा कि उन्होंने भी राजू से बात की और उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की. उच्च शिक्षा मंत्री के पी अनबलगन और ऊर्जा मंत्री पी. तंगमणि हाल में संक्रमित पाये गए थे और उनका इलाज चल रहा है.





Source link

Video: राजपाल यादव को खेत में ट्यूबवेल के नीचे नहाते देख आपको भी जाएगी जलन!

0


राजपाल यादव.

बॉलीवुड एक्टर राजपाल यादव (Rajpal Yadav) का एक लॉकडाउन वीडियो देखकर किसी को भी जलन हो जाएगी. खासकर के जो शहरी लोग होंगे.

मुंबई. लॉकडाउन के दौरान सिने जगत के लोगों की ओर से बहुत से वीडियो आए. किसी ने किचेन में खाना बनाते हुए वीडियो शेयर किए तो किसी ने पोछा लगाते. बहुत से एक्टर-एक्ट्रेसेज ने अपने एक्सरसाइज के वीडियो शेयर किए तो किसी ने चटखारेदार कोई डिश बनाते हुए. लेकिन अब वो दौर आया कि जो ग्रामीण जगत से नाता रखने वाले एक्टर हैं वो अपने ग्रामीण जगत से जुड़ी चीजों का प्रदर्शन कर रहे हैं. खास बात ये है कि ग्रामीण चीजें प्रकृति के इतने करीब हैं कि लोग देखकर मंत्रमुग्‍ध तो ही रहे बल्कि लोगों के मन में यह मलाल भी रह जा रहा है कि काश वो ऐसी खूबसूरत जगह पर होते.

एक ऐसा ही वीड‌ियो अभिनेता राजपाल यादव (Rajpal Yadav) आया है. वो एक ट्यूबवेल के नीचे नहा रहे हैं. उनके आसपास हरियाली दिख रही है. बता दें राजपाल यादव का ताल्लुक उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले से है. वो इन दिनों अपने गांव आए हुए हैं. वहां वो पूरा प्रकृति का आनंद उठा रहे हैं. वीडियो में राजपाल यादव कहते हैं, “ठंडे-ठंडे पानी से नहाना चाहिए, गाना आए या ना आए गाना चाहिए. जब खेतों में पानी चल रहा हो तो नहाने का मजा ही कुछ और है. सुरक्षित रहिए, स्वस्‍थ रहिए.”

अभी कुछ दिनों पहले ही बॉलीवुड के एक अन्य अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दकी को भी खेत में फावड़ा से पानी साधते हुए देखा गया था. वो खेत सींच रहे थे. इसके लिए वो फावड़ा लेकर नाली बना-बनाकर पानी साधते हुए नजर आए थे. बता दें कि इस वक्त सावन का महीना चल रहा है. इन दिनों उत्तर प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में धान की रोपाई की जाती है. ऐसे में ट्यूबवेल के जरिए ज्यादातर खेतों की सिंचाई की जाती है. ऐसे में लोग जमकर ट्यूबवेल के नीचे नहाते हैं.

यह भी पढ़ेंः सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का Title Track रिलीज

बात राजपाल यादव की करें तो उन्होंने साल 1999 में बॉलीवुड में एंट्री की थी. उससे पहले उन्होंने दिल्ली स्थित नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (NSD) से पढ़ाई की थी. इसके बाद से राजपाल यादव ने 50 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं. उनकी ‘कूली नंबर 1’ और ‘हंगामा 2’ बन रही हैं. इनमें वो फिर से दर्शकों के सामने उतरेंगे.





Source link

इलाहाबाद HC का अहम फैसला, 60 साल से पहले हुई मौत तो नहीं रोक सकते ग्रेच्यूटी

0


इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक अहम फैसला लिया है. (File Photo)

हाईकोर्ट (High Court) ने कहा है कि सहायक अध्यापक की पेंशन (Pension), ग्रेच्यूटी आदि भुगतान के संबंध में 16 सित॔बर 2009 को जारी शासनादेश 60 साल की आयु से पहले मृत्यु की दशा में ग्रेच्यूटी भुगतान पर रोक नहीं लगाता.

प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने मृत कर्मचारी के ग्रेच्युटी भुगतान (Gratuity Payment) को लेकर अहम आदेश दिया है. हाईकोर्ट ने कहा है कि सहायक अध्यापक की पेंशन, ग्रेच्यूटी आदि भुगतान के संबंध में 16 सित॔बर 2009 को जारी शासनादेश 60 साल की आयु से पहले मृत्यु की दशा में ग्रेच्यूटी भुगतान पर रोक नहीं लगाता. बल्कि इसके क्लाज 5 में साफ लिखा है कि 60 साल या मृत्यु की दशा में ग्रेच्यूटी भुगतान किया जाएगा. कोर्ट ने 60 साल का विकल्प न देने के आधार पर विधवा याची को ग्रेच्यूटी का भुगतान करने से इंकार करने के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कन्नौज के 3 मार्च 20 के आदेश को रद्द कर दिया है. साथ ही  उषारानी केस के फैसले के तहत नए सिरे से निर्णय लेने का निर्देश दिया है. इस केस में कोर्ट ने भुगतान में देरी के लिए 8 फीसदी ब्याज देने का भी आदेश दिया है. यह आदेश जस्टिस एमसी त्रिपाठी ने प्रेम कुमारी की याचिका की स्वीकार करते हुए दिया है.

याचिका पर अधिवक्ता कमल कुमार केशरवानी ने बहस की. गौरतलब है कि याची के पति सुरवेन्द्र सिंह ग्राम्य शिक्षा निकेतन जूनियर हाई स्कूल जफराबाद उन्नाव में  1995 से सहायक अध्यापक थे. उनकी सेवा काल में मौत हो गई. पेंशन आदि का भुगतान किया गया किन्तु ग्रेच्यूटी रोक दी गई. कहा गया कि उन्होंने  60 साल में सेवानिवृत्त लेने का विकल्प नहीं भरा था. कोर्ट ने तय करने का निर्देश दिया था. इसके बावजूद याची की अर्जी निरस्त की गई जिसे चुनौती दी गई थी.

ये भी पढ़ें: इलाहाबाद हाईकोर्ट और अधीनस्थ अदालतों के सभी अंतरिम आदेश 14 जुलाई तक बढ़े

अंतरिम आदेश की अवधि बढ़ाईबता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने हाईकोर्ट सहित प्रदेश की अधीनस्थ अदालतों, अधिकरणों, न्यायिक संस्थाओं द्वारा पारित सभी अंतरिम आदेश (Interim Order) जो इस दौरान  समाप्त होने वाले हैंं उसे 14 जुलाई तक बढ़ा दिया है. इसी तरह जमानत के आदेश, ध्वस्तीकरण और बेदखली पर रोक के आदेश की भी अवधि 14 जुलाई तक बढ़ा दी गई है. यह आदेश जस्टिस शशिकान्त गुप्ता और जस्टिस वीसी दीक्षित की खंडपीठ ने स्वतः कायम जनहित याचिका पर दिया है. कोर्ट ने 8 जून, 20 और 19 जून 20 को पारित आदेशों को आगे जारी रखने का आदेश दिया है.





Source link

नर्सिंग छात्रों को कोरोना महामारी के चलते बड़ी राहत, इंटर्नल मार्क्स के आधार पर होंगे प्रमोट

0


नर्सिंग छात्रों के लिए राहत भरी खबर (फाइल तस्वीर)

गाइडलाइन के मुताबिक छात्रों को महाविद्यालय स्तर पर आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगले आगामी शैक्षणिक सत्र में प्रोमोट किया जाएगा. जबकि अंतिम वर्ष के छात्रों का शैक्षिणिक और इंटर्नशिप ऑनलाइन माध्यम से क्लास और skill lab द्वारा मूल्यांकन करवाया जाएगा.

जयपुर. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) के मद्देनजर राजस्थान में नर्सिंग के छात्रों के लिए राहत भरी खबर है. नई दिल्ली स्थित भारतीय नर्सिंग परिषद ने लगभग 50 हजार नर्सिंग छात्रों को बड़ी राहत देते हुए उन्हें बिना परीक्षा अगले शैक्षणिक सत्र में प्रमोट करने का निर्णय लिया है हालांकि ये निर्देश अंतिम वर्ष के नर्सिंग छात्रों पर लागू नहीं होगा.

भारतीय नर्सिंग परिषद (Nursing council of india), नई दिल्ली की कार्यकारी समिति के सदस्य डॉ. जोगेंद्र शर्मा ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते भारतीय नर्सिंग परिषद ने छात्रों को (अंतिम वर्ष के छात्रों को छोड़कर) अगले शैक्षिणिक सत्र में प्रमोट करने के निर्णय के संबंध में गाइडलाइन जारी की है.

आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर प्रमोट
छात्रों को महाविद्यालय स्तर पर आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगले आगामी शैक्षणिक सत्र में प्रोमोट किया जाएगा. जबकि अंतिम वर्ष के छात्रों का शैक्षिणिक और इंटर्नशिप ऑनलाइन माध्यम से क्लास और skill lab द्वारा मूल्यांकन करवाया जाएगा. क्लिनिकल और skill lab में उपस्थिति में राहत देते हुए इसे  80% कर दिया गया है. अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा लॉकडाउन ख़त्म होने व आवागमन की सुविधा प्रारम्भ होने के बाद शीघ्र अतिशीघ्र करवाए जाएंगे ताकि उनके करियर का नुक़सान न हो.ये भी पढ़ें- सीएम शिवराज के कोरोना वारियर्स बिना सैलरी लड़ रहे हैं COVID-19 से जंग

मेरिट के आधार पर होगी प्रवेश प्रक्रिया
नए सत्र में प्रवेश के लिए भी गाइडलाइन जारी कर कहा गया है कि यदि ऑनलाइन परीक्षा सम्भव नहीं हुई तो छात्र के last qualifying exam के अंक की मेरिट के आधार पर प्रवेश प्रक्रिया करवाई जाएगी. कोरोना संकट के इस काल में परिषद के इस निर्णय से नर्सिंग छात्रों को बड़ी राहत मिलेगी.





Source link

अमेजन ने कर्मचारियों से TikTok ऐप डिलीट करने को कहा, भेजा मेल

0


अमे​जन ने कर्मचारियों से टिकटॉक ऐप डिलीट करने को कहा.

अमेजन ने अपने कर्मचारियों को ई-मेल भेजकर कहा है कि वो अपने डिवाइस से टिकटॉक (TikTok) ऐप को डिलीट कर दें. कुछ दिन पहले ही डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने भी ​कुछ चीनी ऐप्स को बैन करने का संकेत दिया है.

सैन फ्रांसिस्को. ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन (Amazon) ने अपने कर्मचारियों से चीनी शॉर्ट वीडियो मेकिंग ऐप टिकटॉक (TikTok) को फोन से डिलीट करने को कहा है. कंपनी ने शुक्रवार को कर्मचारियों को भेजे गए एक ई-मेल में ‘सिक्योरिटी रिस्क’ का हवाला देते हुए टिकटॉक ऐप को डिलीट करने को कहा है. न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में इस बारे में जानकारी दी.

टिकटॉक डिलीट नहीं करने पर बंद हो जाएगी अमेजन ई-मेल सर्विस
अमेजन ने इस ई-मेल में कहा कि कर्मचारियों को उन डिवाइस से यह ऐप डिलीट करना होगा, जिसमें ‘​अमेजन ई-मेल’ का एक्सेस है. इसमें कहा गया है कि कर्मचारियों को शुक्रवार तक अपने मोबाइल से यह ऐप डिलीट करना होगा, तभी उनके डिवाइस पर अमेजन ई-मेल एक्सेस जारी रहेगी. हालांकि, कंपनी ने यह भी कहा कि अमेजन वर्कर्स अपने लैपटॉप ब्राउजर से टिकटॉक का इस्तेमाल कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देने के लिए सीमा शुल्क बढ़ा सकती है केंद्र सरकारट्रंप प्रशासन ने टिकटॉक बैन करने के संकेत दिए हैं

टिकटॉक की मालिकाना कंपनी चीन की बाइटडांस (ByteDance) है. यह ऐप दुनियाभर में शॉर्ट वीडियो मेकिंग ऐप के तौर पर दुनियाभर में पॉपुलर है. भारत में बैन किए जाने के बाद अब अमेरिकी सरकार ने भी संकेत दिया है कि वो इस ऐप को बैन कर सकती है. इस ऐप की मालिकाना कंपनी की वजह से अमेरिका में भी इस ऐप पर लगातार सवाल उठते रहे हैं.

बीते सोमवार को ही अमेरिका के विदेश सचिव माइक पॉम्पियो ने कहा था कि ट्रंप प्रशासन कुछ चीनी मोबाइल ऐप को ब्लॉक करने पर विचार कर रहा है. पॉम्पियो ने इसका कारण राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा बताया है.

यह भी पढ़ें: अब गलती से डिलीट हुए Text मेसेज को भी कर सकते हैं रिकवर- अपनाएं ये आसान ट्रिक

भारत में भी टिकटॉक समेत 59 चीनी ऐप्स बैन
मालूम हो कि कुछ दिन पहले ही भारत में भी इस टिकटॉक समेत 59 चीनी ऐप्स पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया था. केंद्र सरकार द्वारा प्रतिबंध के कुछ दिन बाद ही इस ऐप को भारत में गूगल प्ले स्टोर और एप्पल आईओएस स्टोर से भी हटा लिया गया है. केंद्र सरकार ने इस बैन को लेकर कहा कि इन ऐप्स का इस्तेमाल भारत के संप्रुभता और अखंडता के लिए खतरा हो सकता है. टिकटॉक के अलावा जिन ऐप्स को भारत में बैन किया गया है, उसमें शेयरचैट, शेयरइट, कैमस्कैनर जैसे कुछ पॉपुलर ऐप्स भी शामिल था.





Source link

भारत में 5 लाख मरीजों ने कोरोना को हराया, कुल केस हुए 8 लाख, 22 हजार की गई जान

0


भारत में कोरोना वायरस के कुल केस 8 लाख हो गए हैं. (फाइल फोटो)

भारत (India) में कोविड-19 के केस 8 लाख हो गए हैं. देश ने यह आंकड़ा 10 जुलाई को पार किया. राहत की बात यह है कि भारत में कोरोना से संक्रमित होने के बाद लोग तेजी से ठीक हो रहे हैं. अब तक 5 लाख लोग इस महामारी से उबर चुके हैं.

नई दिल्ली. 10 जुलाई को कोरोना वायरस (Coronavirus) और भारत से जुड़ी दो अहम खबरें आईं. इनमें एक अच्छी खबर है और दूसरी चिंताजनक. अच्छी खबर यह है कि देश में कोरोना से संक्रमित होकर ठीक होने वाले लोगों की संख्या 5 लाख पहुंच गई है. देश में अब तक जितने लोग कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित हुए हैं उनमें से 62% से ज्यादा लोग रिकवर होकर घर लौट चुके हैं. कोरोना वायरस से जुड़ी दूसरी अहम खबर यह है कि भारत (India) में कुल केस का आंकड़ा 8 लाख को पार कर गया है. चिंताजनक यह है कि अब देश में महज चार दिन में एक लाख नए केस आ रहे हैं.

भारत में शुक्रवार रात 9 बजे तक कोरोना वायरस के कुल केस 8.04 लाख हो चुके हैं. वर्ल्डोमीटर के मुताबिक इनमें से 5.03 लाख लोग इस महामारी से संक्रमित होकर स्वस्थ हो चुके हैं. जबकि 2.80 लाख लोग अब भी इस बीमारी की चपेट में हैं. करीब 21.80 हजार लोग कोरोना की वजह से जान गंवा चुके हैं. सबसे अधिक कोरोना वायरस केस के मामले में भारत इस समय तीसरे नंबर पर है. भारत से ज्यादा केस सिर्फ अमेरिका और ब्राजील में हैं.

रोज बढ़ रहे 25 हजार केस
भारत में कोरोना का पहला केस 30 जनवरी को सामने आया था. इसके 110 दिन बाद यह संख्या एक लाख हो गई. संक्रमण ने रफ्तार पकड़ी और महज 15 दिन में यह आंकड़ा 2 लाख पार कर गया. देश में कोरोना की रफ्तार कम करने के लिए तमाम प्रयास किए गए, लेकिन कामयाबी मिलती नहीं दिख रही. अब तक रोजाना 25 हजार केस आने लगे हैं. यानी हर चार दिन में देश में एक लाख केस बढ़ रहे हैं.62% से ज्यादा मरीज ठीक हो गए

कोरोना के इस कहर के बीच एक राहत की भी खबर है. देश में 5 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित होने के बाद ठीक हो चुके हैं. यह कुल संक्रमित मरीजों का 62% से अधिक है. यह औसत ना सिर्फ दुनिया के सामूहिक औसत से बेहतर है, बल्कि कई विकसित देशों से भी अच्छा है. अमेरिका में कोरोना से रिकवरी रेट करीब 45% है. भारत से ज्यादा मरीज सिर्फ अमेरिका और ब्राजील में ठीक हुए हैं. ब्राजील में रिकवरी रेट 67% है.

दुनिया में 1.24 करोड़ केस
दुनिया की बात करें तो इस समय 1.25 करोड़ केस हैं और 5.59 लाख लोग जान गंवा चुके हैं. सबसे अधिक केस अमेरिका (USA) में हैं. अमेरिका में 32.40 लाख केस हैं. ब्राजील (Brazil) में 17.62 लाख केस हैं. भारत तीसरे, रूस चौथे और पेरू पांचवें नंबर पर हैं. दुनिया में सात देश ऐसे हैं जहां तीन लाख से अधिक केस हैं.





Source link

प्रेग्नेंट हो गईं हैं ‘कुमकुम भाग्य’ की एक्ट्रेस, लॉकडाउन के बाद होगी इस रेहाना पंडित की एंट्री

0


कुमकुम भाग्य में बदलेगी एक्ट्रेस. रेहाना की होगी एंट्री.

आलिया कुमकुम भाग्य (Kumkum Bhagya) में अभि यानि शबीर आहलूवालिया की बहन बनी है. रेहाना अपने इस रोल को लेकर काफी एक्साइटेड हैं.

मुंबई. एक लंबे अरसे से चला आ रहा जीटीवी का लोकप्रिय शो ‘कुमकुम भाग्य (Kumkum Bhagya)’ लॉकडाउन के बाद एक नए अवतार मे पेश होने जा रहा है. रेहाना पंडित (रेहाना मल्होत्रा) की एंट्री के साथ इस शो की कहानी एक दिलचस्प मोड़ लेने वाली है. रेहाना, आलिया का रोल निभाने वाली हैं. पहले इस किरदार मे शिखा सिंह थी. लेकिन प्रेग्नेंसी के कारण उन्हे यह शो छोड़ना पड़ा. अब आलिया का रोल रेहाना पंडित निभाने वाली हैं जो कि एक नेगेटिव किरदार है.

गौरतलब है कि आलिया इस शो में अभि यानी शबीर आहलूवालिया की बहन बनी हैं. रेहाना अपने इस रोल को लेकर काफी एक्साइटेड हैं. उनका कहना है, “‘कुमकुम भाग्य’ जी टीवी के सबसे लोकप्रिय शो में से एक है और आलिया का किरदार निभाना मेरे लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहेगा. लेकिन मुझे आशा है कि लोगों ने जैसा प्यार मुझ से पहले शिखा सिंह को दिया था वैसा ही प्यार वो मुझे भी देंगे.”

यह भी पढ़ेंः सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का Title Track रिलीज

रेहाना कहती हैं इस कैरेक्टर मे कई परतें और क ई तरह के शेड्स हैं. साथ ही रेहाना यह भी बताती है कि कोरोना के चलते सेट पर कुछ बदलाव किए गए हैं जिसके तहत पूरी टीम को सावधानियां बरतनी पड़ेंगी. रेहाना की एंट्री के साथ-साथ सीरियल मे रणबीर और प्राची के जीवन में भी कई बदलाव आने वाले हैं.उधर, एक्ट्रेस शिखा सिंह (Shikha Singh) और उनके पतिकरण शाह (Karan Shah) प्रेग्नेंसी को लेकर काफी एक्साइटेड हैं. उन्होंने इंस्टाग्राम पर जो फोटो शेयर किया है उसमें एक डॉग भी नजर आ रहा है. करण मजाक करते हुए लिखते हैं कि हमारा डॉग खुश नहीं है क्योंकि उसका सुकून छीन लिया जाएगा और परिवार में एक नया सदस्य जुड़ जाएगा. जून में घर में नए मेहमान के आने का उम्मीद है.

आपको बता दें शिखा ने अपने करियर की शुरुआत ‘लेफ्ट राइट लेफ्ट’ सीरियल से की थी. इसके बाद इन्हें ‘न आना इस देस लाडो’, ‘ससुराल सिमर का’ और ‘लाल इश्क’ में देखा गया था.





Source link

अरुणाचल प्रदेश में भूस्खलन की वजह से 7 लोगों की मौत, PM मोदी ने जताया दुख

0


अरुणाचल प्रदेश में भूस्खलन की वजह से 7 लोगों की मौत (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पीएम मोदी (PM narendra Modi) ने ट्वीट किया, ‘भारी बारिश के चलते अरुणाचल प्रदेश में भूस्खलन के कारण जानमाल के नुकसान से दुखी हूं. इस घटना से आहत परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं.’

ईटानगर. अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में पिछले पांच दिनों से जारी बारिश के बीच भूस्खलन (Landslide) की घटनाओं में सात लोगों की मौत हो गई और एक व्यक्ति लापता है. अधिकारियों ने बताया कि पापुम पारे जिले में गुरुवार देर रात भूस्खलन की घटना में आठ महीने की बच्ची समेत एक परिवार के चार सदस्य जिंदा दब गए. इस घटना पर पीएम नरेंद्र मोदी (PM narendra Modi) ने ट्वीट कर दुख जताया है.

पीएम मोदी  (PM narendra Modi) ने ट्वीट किया, ‘भारी बारिश के चलते अरुणाचल प्रदेश में भूस्खलन के कारण जानमाल के नुकसान से दुखी हूं. इस घटना से आहत परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं. प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता प्रदान की जा रही है.’ वहीं पापुम पारे के उपायुक्त पीगे लीगू ने बताया कि भूस्खलन की घटना गुरुवार और शुक्रवार की रात करीब दो बजकर 30 मिनट पर हुई और एक मकान में सो रहे सभी लोग दब गए. पुलिस, एनडीआरएफ और स्थानीय लोगों की मदद से शवों को मलबे से बाहर निकाला गया.

पत्नी और दो बेटियां जिंदा दबी

लीगू ने बताया कि मृतकों की पहचान टाना मार्टिन (22) और उसकी पत्नी याबुंग लिंदुम और बेटी टाना यासुम और मार्टिन के भाई टाना जॉन के रूप में हुई है. पुलिस अधीक्षक (राजधानी) टुम्मे आमो ने बताया कि एक अन्य घटना में लिंगालया मंदिर के पास मोदिरिजो में दिन में साढ़े ग्यारह बजे भूखस्खलन के चलते एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गयी और एक अन्य लापता हो गया. आमो ने बताया कि इस घटना के समय इस घर का मालिक कामदाक टाडो अपने पड़ोसी के यहां था. उसकी पत्नी और दो बेटियां जिंदा दब गयीं. आठ साल का बच्चा लोकाम रोना घर से भागा और वह बच गया. लोकाम गांधी नामक एक लड़की को मलबे से निकाला गया.

मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये देने का ऐलान

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पुलिस और राज्य आपदा मोचन बल के कर्मियों ने तीन शव मलबे से निकाले और चौथे लापता व्यक्ति की तलाश की जा रही है. मृतकों की पहचान कामदुक कगौंग (30) कामदक करना (नौ) और कामदाक जीता (आठ) के रूप में हुई है. लोकाम मिनू (20) को ढूंढ़ा जा रहा है. राज्य में इसके साथ ही मानसून से संबंधित घटनाओं में मरनेवालों की संख्या बढ़कर 14 हो गई है. मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया और प्रत्येक मृतक के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि तत्काल देने की घोषणा की. उन्होंने आपदा संभावित क्षेत्र में रह रहे लोगों को सावधानी बरतने और सुरक्षित स्थानों पर जाने की अपील की.

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार राज्य में अगले कुछ दिनों में भारी बारिश होगी, इसलिए लोगों सभी एहतियाती कदम उठाएं. उन्होंने जिला प्रशासन और आपदा प्रबंधन विभाग को निर्देश दिया है कि वे जान-माल की बड़ी क्षति से बचने के लिए हालात पर नजर बनाए रखें. पिछले पांच दिनों से लगातार बारिश की वजह से भूस्खलन की घटनाएं हुई हैं और बाढ़ आई है जिससे राज्य में सड़कों और घरों को नुकसान पहुंचा है तथा निचले इलाके जलमग्न हो गए हैं. राज्य में कई स्थानों से भूस्खलन की खबरें आई हैं. (भाषा इनपुट के साथ)





Source link

कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से तिरवनंतपुरम में एक हफ्ते का लॉकडाउन

0


तिरुवनंतपुरम में कोरोना मामले तेजी के साथ बढ़े हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने कहा है कि कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) में सख्त लॉकडाउन (Strict Lockdown) लगाए जाएंगे. विजयन ने को बढ़ते कोविड-19 मामलों के मद्देनजर राजधानी तिरुवनंतपुरम के हालात को गंभीर बताया है.

तिरुवनंतपुरम. लॉकडाउन में दी गई ढील की वजह से एकाएक बढ़े कोरोना मामलों (Covid-19) के मद्देनजर केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम (Thiruvananthapuram) में एक हफ्ते का लॉकडाउन लगाया गया है. राज्य में शुक्रवार को रिकॉर्ड 416 केस सामने आए. अब तक राज्य में एक दिन में सबसे ज्यादा 339 मामले सामने आए थे. राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने कहा है कि कंटेनमेंट जोन में सख्त लॉकडाउन लगाए जाएंगे.

गौरतलब है कि पिनराई विजयन ने गुरुवार को बढ़ते कोविड-19 मामलों के मद्देनजर राजधानी तिरुवनंतपुरम के हालात को गंभीर बताया था. उन्होंने चिंता जाहिर करते हुए कहा था कि राज्य में 300 के लगभग नए केस सामने आ रहे हैं. अगर ये स्थितियां कम्यूनिटी ट्रांसमिशन में बदल गईं तो बड़ी परेशानी उत्पन्न हो जाएगी.

तिरुवनंतपुरम के पूंथरा का मामला गंभीर
गौरतलब है कि राज्य में पूंथरा पहली जगह जहां पर कोरोना के बहुत तेज मामले बढ़े हैं. राजधानी तिरवनंतपुरम में बीते तीन दिनों के दौरान 190 लोग सिर्फ पूंथरा से जुड़े हुए निकले हैं. समुद्री इलाका पूंथरा राजधानी तिरुवनंतपुरम में ही पड़ता है. यहां पर तेजी के साथ कोरोना का प्रसार हो रहा है. इस इलाके पर सोशल डिस्टेंसिंग की सख्ती बढ़ाने के लिए 500 पुलिसकर्मियों की अतिरिक्त नियुक्ति की गई है. इलाके में पुलिस ने अब तक एक लाख से ज्यादा मास्क लोगों में बांटे हैं. साथ ही पुलिस अधिकारी इलाके में गश्ती कर इस बात का खयाल रख रहे हैं सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का सही तरीके से पालन होता रहे.क्या है केरल की स्थिति

केरल में अब तक कोरोना के कुल 6534 मामले सामने आए हैं. इनमें 3708 स्वस्थ भी हो चुके हैं. महामारी की वजह से राज्य में 27 लोगों ने जान गंवाई है. वर्तमान में कुल 2799 एक्टिव केस हैं. राज्य में कोरोना डेथ रेट कई राज्यों के मुकाबले काफी बेहतर रही है.
केरल की हुई है तारीफ
ध्यान रहे कि केरल भारत का ऐसा राज्य है जिसके कोरोना के खिलाफ उठाए गए कदमों की हरतरफ तारीफ हुई है. मार्च महीने में कोरोना के एकाएक बढ़ते मामलों को राज्य सरकार ने बखूबी रोका था. सरकारी प्रयासों को लेकर राज्य की हेल्थ मिनिस्टर केके शैलजा की काफी तारीफ हुई थी. लेकिन अब जबकि लॉकडाउन के नियमों में ढील दी जा रही है तो राजधानी तिरुवनंतपुरम पर खतरा मंडराने लगा है.





Source link